नियम व निति निर्देशिका::: AIBA के सदस्यगण से यह आशा की जाती है कि वह निम्नलिखित नियमों का अक्षरशः पालन करेंगे और यह अनुपालित न करने पर उन्हें तत्काल प्रभाव से AIBA की सदस्यता से निलम्बित किया जा सकता है: *कोई भी सदस्य अपनी पोस्ट/लेख को केवल ड्राफ्ट में ही सेव करेगा/करेगी. *पोस्ट/लेख को किसी भी दशा में पब्लिश नहीं करेगा/करेगी. इन दो नियमों का पालन करना सभी सदस्यों के लिए अनिवार्य है. द्वारा:- ADMIN, AIBA

वीर जवानों को नमन

Written By Mithilesh dubey on सोमवार, 24 मार्च 2014 | 8:35 pm

कपकपाती ठण्ड में
जो कभी ठहरा नहीं
चिलचिलाती धूप में
जो कभी थमा नहीं

गोलियों की बौछार में
जो कभी डरा नहीं
बारूदी धमाकों से
जो कभी दहला नहीं

अनगिनत लाशों में
जो कभी सहमा नहीं
फर्ज के सामने
जो कभी डिगा नहीं

आंसुओं के सैलाब से
जो कभी पिघला नहीं
देश के आन ,मान ,शान में
मिटने से जो कभी पीछे हटा नहीं

ऐसे वीर जवानों को
शत -शत नमन ।।

प्रेम व चुइंग-गम

Written By Mukesh Kumar Sinha on शनिवार, 22 मार्च 2014 | 10:00 am



कल जब टहल रहा था सड़कों पर

तो मुंह में थी चुइंग-गम

और मन में उभरी एक सोच

क्या ढाई अक्षर का प्यार

और चुइंग-गम है नहीं पर्यायवाची ?

नवजीवन की नई सोच !

फिर चूंकि सोच को देनी थी सहमति

इसलिए मुंह में घुलने लगा चुइंग गम !


देखो न शुरुआत में अधिक मिठास

जैसे मुंह से निकलती मीठी “आई लव यू” की आवाज

अंतर तक जाते ठंडे-ठंडे प्यारे एहसास

वाह रे मिंट और मिठास


कुछ वक्त तक चुइंग-गम का मुंह में घुलना

जैसे कुछ समय तक प्यार का

दो दिलों के भीतर प्यारे से एहसास को

तरंगित करते हुए महसूसना ...


पर समय के साथ

यही मिठास और ठंडे एहसास

घूल कर रिस जाते हैं

रह जाती है इलास्टिक खिंचवाट

जो न देती है उगलने, न ही निगलने

उगलो तो कहीं चिपकेगा

निगले तो सितम ढाएगा


ऐसा ही कुछ गुल खिलता है

ये आज का प्यार

और मुंह में डाला हुआ चुइंग गम !


जो फिर भी होता है सबका पसंदीदा

आखिर वो पहला मिठास

और तरंगित खूबसूरत एहसास

है न सबकी जरूरत !!



अंत में मेरी छोटी बहन ने मेरी एक रचना "चाय का एक कप" को स्वर दिया है, आप सब के लिए : -





Life is Just a Life: जब अपना मोदी आयेगा Jab Apna Modi Ayega

Written By Neeraj Dwivedi on शुक्रवार, 21 मार्च 2014 | 9:14 pm

Life is Just a Life: जब अपना मोदी आयेगा Jab Apna Modi Ayega: जब अपना मोदी आयेगा वो चाँद उधारी लेकर निकला आम आदमी सा, भोले तारों को छलकर बन बैठा खास आदमी सा, भूल गया है समयचक्र रातों का अंत सु...

Life is Just a Life: मेरे विश्वास Mere Vishwas

Written By Neeraj Dwivedi on मंगलवार, 18 मार्च 2014 | 9:47 pm

Life is Just a Life: मेरे विश्वास Mere Vishwas: मेरे विश्वास अब नहीं गिनना चाहता मैं मात्राएँ बनाने को छंद, बुनने को अपने द्वंद, क्यों सहारा लूँ पन्नों का क्यों बहा दूँ अपनी ...

Life is Just a Life: गरजने वाले अक्सर बरसते नहीं Garjane wale aksar bar...

Written By Neeraj Dwivedi on सोमवार, 10 मार्च 2014 | 11:10 pm

Life is Just a Life: गरजने वाले अक्सर बरसते नहीं Garjane wale aksar bar...: गरजने वाले अक्सर बरसते नहीं मुझे पता है, गरजने वाले अक्सर बरसते नहीं, पर तुम्हें पता है, वो बरसते नहीं या बरस नहीं पाते? उनक...

Founder

Founder
Saleem Khan