नियम व निति निर्देशिका::: AIBA के सदस्यगण से यह आशा की जाती है कि वह निम्नलिखित नियमों का अक्षरशः पालन करेंगे और यह अनुपालित न करने पर उन्हें तत्काल प्रभाव से AIBA की सदस्यता से निलम्बित किया जा सकता है: *कोई भी सदस्य अपनी पोस्ट/लेख को केवल ड्राफ्ट में ही सेव करेगा/करेगी. *पोस्ट/लेख को किसी भी दशा में पब्लिश नहीं करेगा/करेगी. इन दो नियमों का पालन करना सभी सदस्यों के लिए अनिवार्य है. द्वारा:- ADMIN, AIBA

Home » » न जाने कितने रूपों को अपनाता है

न जाने कितने रूपों को अपनाता है

Written By Brahmachari Prahladanand on गुरुवार, 5 जनवरी 2012 | 8:35 am

न जाने कितने रूपों को अपनाता है,
न जाने कितने रुपयों को कमाता है,
एक बार जो दुनिया को ठगने लग जाता है,
वही रूप बदलने वाला ही तो बहुरुपिया कहलाता है,

रूप वो बदल लेता है,
हर भाषा जान लेता है,
जिस देश में जाएँ,
वेश वही पहन लेता है,

लोगों को लगता अपना है,
पूरा करता सपना है,
कुछ दिन रहकर साथ में,
कूच उसको करना है,

बातों ही बातों में,
बात वो सब निकाल लेता है,
रूप हर किसी का धर लेता है,
भाषा हर किसी की बोल लेता है,

ऐसे ही धीरे-धीरे,
बहुरुपिओं को जमा कर लेता है,
एक नाटक फिर बना लेता है,
नाटक कर-कर, रुपया जमा कर लेता है,

बहुरूपिये का रूप बना वो,
सारी धरती घूम लेता है,
ईधर की चीज़ उधर,
इसी सहारे कर लेता है,

बहुरूपिये का असली चेहरा न कोई देख पाता है,
बगल में भी गर खड़ा हो तो कोई न पहचान पाता है,
यही बहुरुपिया नाम बदल कर नाटक में आता है,
असली नाम भी बहुरूपिये का न कोई जान पाता है,



.
Share this article :

2 टिप्पणियाँ:

Rajesh Kumari ने कहा…

bahrupiye ese hi hote hain.bilkul sahi likha hai.bahut achchi kavita.

आशा ने कहा…

बहुरूपिये को समझना सरल नहीं |वह चाहे जिसकी नक़ल कर सकता है |
अच्छी रचना |
आशा

एक टिप्पणी भेजें

Thanks for your valuable comment.