नियम व निति निर्देशिका::: AIBA के सदस्यगण से यह आशा की जाती है कि वह निम्नलिखित नियमों का अक्षरशः पालन करेंगे और यह अनुपालित न करने पर उन्हें तत्काल प्रभाव से AIBA की सदस्यता से निलम्बित किया जा सकता है: *कोई भी सदस्य अपनी पोस्ट/लेख को केवल ड्राफ्ट में ही सेव करेगा/करेगी. *पोस्ट/लेख को किसी भी दशा में पब्लिश नहीं करेगा/करेगी. इन दो नियमों का पालन करना सभी सदस्यों के लिए अनिवार्य है. द्वारा:- ADMIN, AIBA

Home » » तेरी ख़ामोशी

तेरी ख़ामोशी

Written By PRIYANKA RATHORE on बुधवार, 9 मार्च 2011 | 8:10 am






तेरी ख़ामोशी -
इस पलछिन में .......
भीगी बूंदों की तरह
कुछ बयाँ  कर जाती है !!

तेरी ख़ामोशी -
गीले से अहसास में
रात की चांदनी की तरह
सिहरन पैदा कर जाती है !!

तेरी ख़ामोशी -
चुभते हुए शूल  संग
फूलों की खुशबु की तरह
दर्द ही दे जाती है !!

तेरी ख़ामोशी -
इस पलछिन में ...........



प्रियंका राठौर




Share this article :

11 टिप्पणियाँ:

Hema Nimbekar ने कहा…

bahut khub...bahut sunder kavita hai..

वन्दना ने कहा…

आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
कल (10-3-2011) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।

http://charchamanch.blogspot.com/

Dr. shyam gupta ने कहा…

बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति....

इस खामोशी का आलम क्या कहिये,
गूंगों को भी सरगम आ जाये ।

PRIYANKA RATHORE ने कहा…

@hema-thanks dear...
@vandna ji & gupta ji-aapka bhut bhut dhanybad...

सलीम ख़ान ने कहा…

बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति....

PRIYANKA RATHORE ने कहा…

@saleem ji- dhanybad

ehsas ने कहा…

इन खामोशियों को समझने की कोशीश कीजिए। फिर कोई शिकायत नहीं रहेगी। आभार।

Khare A ने कहा…

sudnar panktiyan

Khare A ने कहा…

sudnar panktiyan

अनामिका की सदायें ...... ने कहा…

khoobsurat ehsas.

RAMS ने कहा…

APKI PANKTIYON NE DIL KO CHHOO LIYA.

एक टिप्पणी भेजें

Thanks for your valuable comment.