नियम व निति निर्देशिका::: AIBA के सदस्यगण से यह आशा की जाती है कि वह निम्नलिखित नियमों का अक्षरशः पालन करेंगे और यह अनुपालित न करने पर उन्हें तत्काल प्रभाव से AIBA की सदस्यता से निलम्बित किया जा सकता है: *कोई भी सदस्य अपनी पोस्ट/लेख को केवल ड्राफ्ट में ही सेव करेगा/करेगी. *पोस्ट/लेख को किसी भी दशा में पब्लिश नहीं करेगा/करेगी. इन दो नियमों का पालन करना सभी सदस्यों के लिए अनिवार्य है. द्वारा:- ADMIN, AIBA

Home » » आ रहा हूँ पलट के, मैं हूँ सलीम ख़ान !

आ रहा हूँ पलट के, मैं हूँ सलीम ख़ान !

Written By Saleem Khan on सोमवार, 2 जुलाई 2012 | 7:29 pm


मेरे दुश्मन समझ रहे थे 

मैं अब कभी लौट के ना आऊंगा, 

एक गुमनामी का समुन्दर है 

उसमे ही जाके डूब जाऊँगा. 


अभी बाक़ी मेरी कहानी है,
 
सारी दुनिया को जो सुनानी है... 


मुझे पहचानो 

देखो मैं हूँ कौन 

आ रहा हूँ पलट के 

मैं हूँ सलीम ख़ान, ख़ान, ख़ान....!


Share this article :

2 टिप्पणियाँ:

Sushil ने कहा…

अरे टोपी तो उतारो पहले। पहचान लेंगे । टेंशन नहीं लेने का ।

Dr. Ayaz Ahmad ने कहा…

aa jaao aa jaao bhai.
aapka istaqbaal hai.

एक टिप्पणी भेजें

Thanks for your valuable comment.