नियम व निति निर्देशिका::: AIBA के सदस्यगण से यह आशा की जाती है कि वह निम्नलिखित नियमों का अक्षरशः पालन करेंगे और यह अनुपालित न करने पर उन्हें तत्काल प्रभाव से AIBA की सदस्यता से निलम्बित किया जा सकता है: *कोई भी सदस्य अपनी पोस्ट/लेख को केवल ड्राफ्ट में ही सेव करेगा/करेगी. *पोस्ट/लेख को किसी भी दशा में पब्लिश नहीं करेगा/करेगी. इन दो नियमों का पालन करना सभी सदस्यों के लिए अनिवार्य है. द्वारा:- ADMIN, AIBA

Home » » [ब्लॉग पहेली चलो हल करते हैं ]-ब्लॉग पहेली-२३

[ब्लॉग पहेली चलो हल करते हैं ]-ब्लॉग पहेली-२३

Written By shikha kaushik on मंगलवार, 24 अप्रैल 2012 | 2:58 pm


ब्लॉग पहेली-२३ 


इस बार पहचाने उन  पांच ब्लॉग का नाम जिस पर प्रस्तुत  पोस्ट  के अंश  हैं ये -


१-धूप मेरे हाथ से जब से फिसल गई जिंदगी से रौशनी उस दिन निकल गई नाव साहिल तक वही लौटी है .


२-जरूर राधा ने मोहिनी डारी है तभी छवि तुम्हारी इतनी मतवाली है जो भी देखे मधुर छवि अपना आप 


भुलाता है ये राधे की महिमा न्यारी है ...


३-जबकि अपने देश में लोग इलाज की कमी से मर रहे हों. देश में 7 लाख डाक्टरों की कमी है. लोग मर रहे 


हैंमगर डाक्टर विदेश में चले जाते हैं. एक एमबीबीएस डाक्टर की पढ़ाई में एम्स में 1.50 करोड़ रूपये का ख़र्च आता.


४-..कल उंगली से रेत पर तेरी तस्वीर बनाई मैंने... .....एक लहर आई अपने साथ ले गई.. ....


फिर क्या था हर तरफ, हर जगह बस तुम ही तुम..


५-*मित्रों!*** * सात जुलाई, 2009 को यह रचना लिखी थी! इस पर नामधारी ब्लॉगरों के तो मात्र 14 कमेंट आये थे मगर बेनामी लोगों के 137 कमेंट आये।*** * एक बार पुनः इसी रचना ज्यों की त्यों को प्रकाशित कर रहा ..


                                                             केवल ब्लॉग का नाम बताएं और विजेता बन जाएँ .
                                                                   
                                                                         शुभकामनाओं के साथ 
                                                                 
                                                                             शिखा  कौशिक 
                                    [ब्लॉग पहेली चलो हल करते हैं ]
Share this article :

0 टिप्पणियाँ:

एक टिप्पणी भेजें

Thanks for your valuable comment.