नियम व निति निर्देशिका::: AIBA के सदस्यगण से यह आशा की जाती है कि वह निम्नलिखित नियमों का अक्षरशः पालन करेंगे और यह अनुपालित न करने पर उन्हें तत्काल प्रभाव से AIBA की सदस्यता से निलम्बित किया जा सकता है: *कोई भी सदस्य अपनी पोस्ट/लेख को केवल ड्राफ्ट में ही सेव करेगा/करेगी. *पोस्ट/लेख को किसी भी दशा में पब्लिश नहीं करेगा/करेगी. इन दो नियमों का पालन करना सभी सदस्यों के लिए अनिवार्य है. द्वारा:- ADMIN, AIBA

Home » » यूँ तो चमचा कहकर

यूँ तो चमचा कहकर

Written By Brahmachari Prahladanand on बुधवार, 7 दिसंबर 2011 | 11:12 am


.
यूँ तो चमचा कहकर,
हर कोई चमचे का मजाक उडा देता है,
पर वो क्या जानता नहीं,
चमचा किस-किस काम आता है,

गर चमचा न हो तो,
गरमा-गर्म दाल में हाथ कौन डाले,
गर चमचा न हो तो,
कडवी दवाई को कौन झेले,

चमचा ही तो हर गर्मी को ठंडा कर देता है,
चमचा ही तो हर तकलीफ को सहन कर लेता है,
देखो चमचा कैसे गर्म दूध में चला जाता है,
चावल को मिलकर खीर पकाकर लाता है,

गर चमचा न होता तो,
कितनों के हाथ जल गए होते,
गर चमचा न होता तो,
कितनों को छाले पड़ गए होते,

सोचो चमचा की तपस्या कितनी है,
सोचते उसमे जान न उतनी है,
कैसे बिलकुल निढाल रहता है,
तुम्हारी ढाल बनके रहता है,
.
आग में, पानी में, दूध में,
चमचा ही तो तपता है,
तेरा ही तो ख्याल रख के,
हर चीज़ लाकर देता है,

चमचा गर्मी, ठंडक झेल लेता है,
चाय में डालो की आइश्क्रीम में,
तुम्हे न कुछ अहसाश होने देता है,
अपनी भावनाओं को संभाल लेता है,

चमचे की तपस्या बहुत बड़ी है मेरे यार,
उसी तपस्या से तप-तप कर, तभी तो पाया प्यार,
तभी तो बनानेवाली उसे खुसी से चूम लेती है,
क्यूंकि इसी से अपनी उंगलियाँ बचा लेती है,

चमचा है बड़े काम की चीज़,
पर पता नहीं लोग क्यूँ करते हैं खीज,
किसी को किसी का चमचा बनते देख,
क्यूँ वो उसमे मीन निकालते और मेख,
.
चमचा बनना, न इतना आसान है,
हर मुसीबत झेलना, न इतना आसान है,
.
अपने अरमानों को मारना, न इतना आसान है,
अपने-आपको खो देना, न इतना आसान है,
.
चुप वो रहता है, सहता है सब,
गर्मी हो, ठंडक हो, सबको देता है सब,
.
उसकी तपस्या पे गौर करो,
हर काम वही तो कर लाता है,
तुम्हारे हाथ से पहले,
वही तो तुम्हारे मुंह में जाता है,

तभी तो चमचे बड़ों के मुंह लगे होते हैं,

इस आदत से पले होते हैं,
दूर इनको कैसे करोगे,
ये तो बड़े भले होते हैं,

चमकता है जो चम-चम,
तभी तो वह है चमचा,
उसकी चमक उसकी दमक से है,
तभी तो वह है चमचा,
 .
अब तो, चमचो की, आदत-सी हो, गयी है,
न जाने, उंगलियाँ, कहाँ खो, गयी हैं,
.
हमें, जिन्दगी के, अहसास का, क्या पता,
हमें न, आग की, तपिस का, पता,
न हमें, पानी की, ठंडक का, पता,
.
हर चीज़, हम, चमचे से, निकालते हैं,
उसी, चमचे को, मुंह में, डालते हैं,
.
हमें, शहद की, चिपचिपाहट का, क्या पता,
हमें, अचार की, चिरपिराहट का, क्या पता,
.
हाथों की, उँगलियों को, को संभाल, रखा है,
तभी तो, हमने चमचा, पाल, रखा है,


                                                       ------- बेतखल्लुस
 

.
Share this article :

2 टिप्पणियाँ:

तरुण भारतीय ने कहा…

वाकई बहुत ही सार्थक व् सारगर्भित पोस्ट लिखी है आपने .......बहुत ही बढ़िया ...

दिलबाग विर्क ने कहा…

आपकी पोस्ट आज के चर्चा मंच पर प्रस्तुत की गई है
कृपया पधारें
चर्चा मंच-722:चर्चाकार-दिलबाग विर्क

एक टिप्पणी भेजें

Thanks for your valuable comment.