नियम व निति निर्देशिका::: AIBA के सदस्यगण से यह आशा की जाती है कि वह निम्नलिखित नियमों का अक्षरशः पालन करेंगे और यह अनुपालित न करने पर उन्हें तत्काल प्रभाव से AIBA की सदस्यता से निलम्बित किया जा सकता है: *कोई भी सदस्य अपनी पोस्ट/लेख को केवल ड्राफ्ट में ही सेव करेगा/करेगी. *पोस्ट/लेख को किसी भी दशा में पब्लिश नहीं करेगा/करेगी. इन दो नियमों का पालन करना सभी सदस्यों के लिए अनिवार्य है. द्वारा:- ADMIN, AIBA

Home » »

Written By Akhtar khan Akela on शनिवार, 12 फ़रवरी 2011 | 9:38 pm

साहित्यकार शम्शेर बहादुर सिंह को कोटा के साहिय्कारों ने याद किया

Saturday, February 12, 2011

देश के प्रख्यात साहित्यकार शमशेर बहादुर सिंह को आज यहाँ भारतेंदु समिति कोटा में उनकी स्म्रति में दो दिवसीय कार्यक्रम आयोजित कर याद किया , भारतेंदु समिति भवन में आयोजित इस कार्यक्रम को कोटा की विकल्प साहित्यिक संस्था और राजस्थान हिंदी साहित्य एकेडमी उदयपुर के संयुक्त तत्वाधान में शुरू किया गया ।
तीसरा खम्भा और अनवरत के संस्थापक ब्लोगर किंग भाई दिनेश राय द्विवेदी भारत होटल से महमानों को कार्यक्रम स्थल पर लेकर पहुंचे और कार्यक्रम की शुरुआत की गयी भाई अम्बिका दत्त जी ने कार्यक्रम का अस्न्चालं शुरू किया महमानों को मंच पर बेठा कर कार्यक्रम की शुरुआत की गयी दीप के स्थान पर मशाल दीप प्रजलित किया गया और कार्यक्रम के शुभारम्भ के पहले भाई शरद तेलंग की मधुर आवाज़ में कोटा के ठाडा राही के गीत को सुना कर माहोल को जमाया गया शरद जी की मधुर आवाज़ ने सच वातावरण खुबसुरत और संगीतमय बना दिया ।
कार्यक्रम के प्रारम्भ में जनाब महेंद्र नेह ने दर्द भरे अंदाज़ में बताया के इस कार्यक्रम की प्रस्तावना स्वर्गीय शिवराम जी ने बनाई थी लेकिन आज जब कार्यक्रम हो रहा हे तो वोह खुद हमें छोड़ कर चले गये , इसी दोरान शांति भारद्वाज राकेश ,डोक्टर कन्हय्या लाल ,अकील शादाब गीतकार कमलाकर, सईद महवी , कवि गोविन्द सिंह जी के निधन पर शोक व्यक्त किया गया ।
कार्यक्रम में जस्टिस शिव कुमार के नहीं आ पाने से रामकुमार कृषक जी से कार्यक्रम की अध्यक्षता करवाई गयी जबकि कवि साहित्यकार नन्द भारद्वाज को मुख्य अतिथि बनाया गया सुरेश सलिल विशिष्ट अतिथि थे कार्यक्रम में साहित्य एकेडमी से डोक्टर प्रमोद भट को आना था लेकिन वोह नहीं आये और प्रतिनिधि विष्णु पालीवाल को भेज दिया सभी वक्ताओं ने कवि साहित्यकार शमशेर की कविता रचना प्रदर्शनी का अवलोकन भी किया वक्ताओं ने शमशेर को सरल और जटिल रचनाकार कवि बताया किसी ने उन्हें मार्क्सवादी कहा तो किसी ने उन्हें साहित्यकार के साथ साथ कलाकार चित्रकार शिल्पकार भी कहा ।
शमशेर बहादुर सिंह का जन्म १३ जनवरी १९११ को एक जात परिवार में देहरादून में जन्म हुआ शमशेर ने इलाहाबाद से बी ऐ किया उनकी पत्नी का कम समय में ही मिर्त्यु हो गयी वोह फिर दिल्ली आ गये उन्होंने लगभग एक वर्ष तक दिल्ली में धित्र्कारिता सीखी १९३७ में वोह हरिवंश राय बच्चन की प्रेरणा से वापस इलाहबाद चले गये वोह कलेक्ट्रेट में रीडर के पद पर कार्यरत रहे फिर बनारस में कहानी के सम्पादक हो गये इसी दोरान शमशेर कम्युनिस्ट की और बढ़ गये ,इनका नया साहित्य का निराला अंक बहुत चर्चित रहा ,फिर समशेर माया मैगज़ीन में सहायक सम्पादक हो गये १९५४ में इन्होने माया छोड़ दी इन्होने मनोहर कहानिया सहित कई दूसरी मेग्ज़िनों का भी सम्पादन किया इन्होने एक पुस्तक प्रकाशित की और फिर मध्य प्रदेश से तुलसी पुरस्कार के लियें चयन हुआ दिली में हिंदी उर्दू शब्दकोश में सहयोगी रहे १९७८ में शमशेर ने सोवियत संघ की यात्रा की कई संस्थाओं के अध्यक्ष रहने और साहित्य में गदध पदध की सेवा करने के बाद जब इनका लेखन इनके विचार बुलंदियों पर थे तब १२ माय १९९३ को इनका निधन हो गया इनका साहित्यिक योगदान आज भी अविस्मरनीय हे और इसीलियें इनकी प्रतिभा को जन जन तक पहुँचने के लियें विकल्प ने कोटा में दो दिवसीय कार्यक्रम रखा हे । कार्यक्रम में भारतेंदु समिति अध्यक्ष राजेश बिरला, मदन मदिर ,बार कोंसिल के सदस्य महेश जी गुप्ता, शरद तेलंग ,अर्चना सक्सेना,दृष्टिकोण के सम्पादक चटर्जी ,एडवोकेट विपिन बाफना, प्रशांत तहलियानी ,डोक्टर मनु शर्मा सहित दर्जनों साहित्यकार और पत्रकार उपस्थित थे . अख्तर खान अकेला कोटा राजस्थान

Share this article :

0 टिप्पणियाँ:

एक टिप्पणी भेजें

Thanks for your valuable comment.