नियम व निति निर्देशिका::: AIBA के सदस्यगण से यह आशा की जाती है कि वह निम्नलिखित नियमों का अक्षरशः पालन करेंगे और यह अनुपालित न करने पर उन्हें तत्काल प्रभाव से AIBA की सदस्यता से निलम्बित किया जा सकता है: *कोई भी सदस्य अपनी पोस्ट/लेख को केवल ड्राफ्ट में ही सेव करेगा/करेगी. *पोस्ट/लेख को किसी भी दशा में पब्लिश नहीं करेगा/करेगी. इन दो नियमों का पालन करना सभी सदस्यों के लिए अनिवार्य है. द्वारा:- ADMIN, AIBA

Home » » शराफ़त

शराफ़त

Written By Krishan Kayat on बुधवार, 23 फ़रवरी 2011 | 8:33 pm

SHARAFAT

                       { शराफ़त }
             शराफ़त का जमाना नहीं,
                                             हकीकत है ये कोई अफसाना नहीं ,
          मेरे  गमों  का इलाज  ,
                                          कोई मयखाना   नहीं ,
           किसी  को अपना दर्द ,
                                             मैं  चाहता   बताना  नहीं ,
           दुसरो पे हँसना  जानते  हैं सब  ,
                                              जानता  कोई  हँसाना  नहीं ,
           दिल  में 'कायत '  कांटे  चुभे हैं , 
                                                   पर   हाथों   में   है  फूल  ,
           सिल  रख अपने ग़मों पे ,
                                            हम जहां को खुश करने में हैं मशगूल,
          हमें कोई दुःख-दर्द नहीं ,
                                            ये समझना आपका  भारी है    भूल ,
            देख लिया पहचान लिया ,
                                                     अब दुनिया से अनजाना नहीं ,
          शराफ़त का जमाना नहीं ,
                                            हकीकत है ये कोई अफसाना नहीं !
     
Share this article :

2 टिप्पणियाँ:

Minakshi Pant ने कहा…

चोट पर चोट दिल पे है खाए हुए |
होंठ फिर भी है मुस्कुराए हुए |
म़ोत की वादियों मै बैठा हूँ |
जिंदगी की शमा जलाये हुए |

दर्द को बयान करने का खुसुरत अंदाज़ |

Minakshi Pant ने कहा…

दर्द को बयान करने का खुबसूरत अंदाज़ |

एक टिप्पणी भेजें

Thanks for your valuable comment.