नियम व निति निर्देशिका::: AIBA के सदस्यगण से यह आशा की जाती है कि वह निम्नलिखित नियमों का अक्षरशः पालन करेंगे और यह अनुपालित न करने पर उन्हें तत्काल प्रभाव से AIBA की सदस्यता से निलम्बित किया जा सकता है: *कोई भी सदस्य अपनी पोस्ट/लेख को केवल ड्राफ्ट में ही सेव करेगा/करेगी. *पोस्ट/लेख को किसी भी दशा में पब्लिश नहीं करेगा/करेगी. इन दो नियमों का पालन करना सभी सदस्यों के लिए अनिवार्य है. द्वारा:- ADMIN, AIBA

Home » » MIZAZ

MIZAZ

Written By Krishan Kayat on शनिवार, 19 फ़रवरी 2011 | 5:20 pm

                      "   मिज़ाज "
         बदला- बदला मिजाज़ है,
                                               तेरी बेवफाई में कोई राज़ है
    मुझसे  क्या कसूर हुआ, 
                                                मेरी किस बात से खफा हो तुम,
   बिना बताये मैं क्या जानूं ,
                                                भ्रांतियों के किस दायरे में हो ग़ुम ,
   चंद रोज़ का रुतबा तेरा,
                                              जिस पर इतना नाज़ है,
   बदला-बदला मिज़ाज ...................................................
               
    सितमगर न डाह सितम इतना ,

                                                     तडपाहट में दर्द कम ना होगा ,
  तूँ क्या जाने जुदाई का गम,
                                                   पहलू में तेरे गम ना होगा ,
   कोई आंच ना आए तुझ पर,
                                              "कायत" ये जख्मी दिल की आवाज है,
    बदला-बदला मिज़ाज है,
                                         तेरी बेवफाई में कोई राज़ है...............
Share this article :

2 टिप्पणियाँ:

JAGDISH BALI ने कहा…

कुच्छ तो कमी रही होगी यूं ही कोई बेवफ़ा नहीं होता !

Dr. shyam gupta ने कहा…

सच कहा--यूं ही कोई वेवफ़ा नहीं होता...आत्मालोचन कीजिये ज़नाब...

एक टिप्पणी भेजें

Thanks for your valuable comment.