नियम व निति निर्देशिका::: AIBA के सदस्यगण से यह आशा की जाती है कि वह निम्नलिखित नियमों का अक्षरशः पालन करेंगे और यह अनुपालित न करने पर उन्हें तत्काल प्रभाव से AIBA की सदस्यता से निलम्बित किया जा सकता है: *कोई भी सदस्य अपनी पोस्ट/लेख को केवल ड्राफ्ट में ही सेव करेगा/करेगी. *पोस्ट/लेख को किसी भी दशा में पब्लिश नहीं करेगा/करेगी. इन दो नियमों का पालन करना सभी सदस्यों के लिए अनिवार्य है. द्वारा:- ADMIN, AIBA

Home » » स्वागतम स्वागतम स्वागतम

स्वागतम स्वागतम स्वागतम

Written By Akhtar khan Akela on मंगलवार, 22 फ़रवरी 2011 | 5:43 pm

हिंदी ब्लोगर फ़ोरम स्वागतम स्वागतम स्वागतम ,,,,,

Tuesday, February 22, 2011

जी हाँ दोस्तों डोक्टर अनवर जमाल का कमाल ही कहा जाएगा जो उन्होंने एक नई सोच के तहत वर्तमान परिस्थितियों में सभी ब्लोगर भाईयों को नई दिशा नई सोच देने के मकसद से गंगा जमना संस्क्रती को सींचने के लियें हिंदी ब्लोगर्स फ़ोरम का गठन कर उसे इंटरनेट से परिचित कराया , परिचित कहें या फिर इंटरनेट की दुनिया में लोगों को सबकी खबर दे सबकी खबर ले के उद्देश्य से एक सार्थक ब्लॉग दिया जिससे अब लोग धीरे धीरे जुड़ने लगे हें । डोक्टर अनवर जमाल ने इस कोशिश में बहन रश्मि प्रभा को मुख्य निरीक्षिका बनाया हे ज्ब्क्ली मुझे और बहन शालिनी को कानूनी सलाहकार बनाया हे हम इसका स्वागत करते हें ।

[OgAAAOhEfaFfJqsYSXZwKmn2yGCruoLz1_BYD3JyfBvqOvAQ_phmIly6K7nXAt4JEupzKPzYONjra3W4UDB3-q_ntekAm1T1UFC5joYhBU8OytIITyH1sLoRr-Ub.jpg]

रश्मि प्रभा (मुख्य निरीक्षिका -HBFI)

अख्तर खान अकेला (कानूनी सलाहकार-HBFI)

[shalini+kaushik+badshah.jpg]

शालिनी कौशिक (कानूनी सलाहकार-HBFI) हिंदी ब्लोगर फ़ोरम सभी भाइयों और बहनों का स्वागत करता हे और जेसा के भाई डोक्टर अनवर जमाल का स्वभाव हे सभी को प्यार दो सभी से प्यार लो न

काहू से दोस्ती रखो ना कहू से बेर रखो इसी तर्ज़ पर इस ब्लॉग की ब्लोगिंग चल रही हे कहने को डोक्टर अनवर जमाल इस ब्लॉग फ़ोरम के लियें अकेले ही निकले थे लेकिन उनके इस ब्लॉग में १३ फरवरी को पहली पोस्ट बहन रश्मि प्रभा जी की आई और पहली पोस्ट फिर एक युग का इन्तिज़ार कृष्ण भगवान के चरित्र पर ऐसी पोस्ट साबित हुई के लोगों के दिल और दिमाग पर छा गयी बस डोक्टर अनवर जमाल जो उत्तर प्रदेश में रहकर अपने साथियों के साथ ब्लोगिंग की दुनिया में सेवा कार्य कर रहे हें लोगों को एक दुसरे से मिलाने एक दुसरे परिचित कराने के काम में जुटे हें वोह ऋषियों के चरित्र को आदर्श चरित्र मानते हें इसीलियें आजा एक ब्लॉग तपस्वी की तरह ब्लोगिंग सेवा में लगे हें उनको इस कार्य के लिए धन्यवाद ।

इस ब्लोगिंग दुनिया में लोग चाहे जो सोचते हों चाहे जो गुटबाजी रखते हों लेकिन यह सच हे के हम एक हें हमारी सोच एक हे और हम किसी भी तरह से कुछ भी लिखें हम एक दुसरे को पसंद करें या नहीं करें लेकिन प्यार तो हमें करना ही पढ़ेगा और विनम्रता एक दुसरे के लियें प्यार बढाती हे दोस्तों हमें मिलजुलकर जी हाँ सभी को मिलजुलकर ब्लोगिंग की इस दुनिया को चोथे स्तम्भ से बढ़ा स्तम्भ साबित करना हे और आज वोह वक्त आने लगा हे इस ब्लोगिंग दुनिया में एक साल में मेने भी बहुत उतर चड़ाव और झगड़े देखे हें लेकिन जो प्यार और सद्भाव एक दुसरे की मदद करने का स्वभाव इस दुनिया में देखने को मिला हे उसके आगे छोटे मोटे झगड़े इस ब्लॉग परिवार का प्यार और बढ़ा देते हें ।

हिंदी ब्लॉग फ़ोरम में मुश्फिक सुलतान,हकीम युनुस खान,मुकेश कुमार सिन्हा ,रश्मि जी प्रभा,डायर,शावेज़ मलिक,सुरेन्द्र जी , शिखा कोशिक,पुष्पेन्द्र पालीवाल,हरीश सिंह ,पूजा जी, तारकेश्वरी गिरी जी ,सलीम खान ,सफत आलम ,डोक्टर अनवर जमाल ,डोक्टर अशोक पामिस्ट ,शालिनी कोशिक,यशवंत माथुर ,रोशी, अहसास की परतें,दिलबाग , इंजीनियर सत्यम शिवम , सहित कई ब्लोगर भाई बहन जुड़ गये हें ।

हाथों में अंगारे लियें में सोच रहा था

कोई मुझे अंगारों की तासीर बताये

शायद ब्लोगिंग की दुनिया इसी का नाम हे हो सकता हे कुछ लोग खफा हो हो सकता हे कुछ लोग खफा नहीं हो लेकिन जो भी हो हें तो सब मेरे ब्लोगर भाई इस लियें स्वागतम स्वागतम । अख्तर खान अकेला कोटा राजस्थान
Share this article :

3 टिप्पणियाँ:

सलीम ख़ान ने कहा…

इस ब्लोगिंग दुनिया में लोग चाहे जो सोचते हों चाहे जो गुटबाजी रखते हों लेकिन यह सच हे के हम एक हें हमारी सोच एक हे और हम किसी भी तरह से कुछ भी लिखें हम एक दुसरे को पसंद करें या नहीं करें लेकिन प्यार तो हमें करना ही पढ़ेगा और विनम्रता एक दुसरे के लियें प्यार बढाती हे दोस्तों हमें मिलजुलकर जी हाँ सभी को मिलजुलकर ब्लोगिंग की इस दुनिया को चोथे स्तम्भ से बढ़ा स्तम्भ साबित करना हे और आज वोह वक्त आने लगा हे इस ब्लोगिंग दुनिया में एक साल में मेने भी बहुत उतर चड़ाव और झगड़े देखे हें लेकिन जो प्यार और सद्भाव एक दुसरे की मदद करने का स्वभाव इस दुनिया में देखने को मिला हे उसके आगे छोटे मोटे झगड़े इस ब्लॉग परिवार का प्यार और बढ़ा देते हें ।

शालिनी कौशिक ने कहा…

sabhi ka bahut sundar bhav se swagat kiya hai aapne.aabhar....

DR. ANWER JAMAL ने कहा…

आपने जिस मुहब्बत से यह पोस्ट लिखी है और हर जगह इसे फैला दिया है वह एक क़ाबिले क़द्र जज़्बा है ।
आपका शुक्रिया ।

वकील साहब , आप बूट पालिश करने वाले बच्चे की एक प्रेरक कथा लिख चुके हैं ।
कृप्या उसे यहाँ भी दें । लोगों को नसीहत मिलेगी ।

एक टिप्पणी भेजें

Thanks for your valuable comment.