नियम व निति निर्देशिका::: AIBA के सदस्यगण से यह आशा की जाती है कि वह निम्नलिखित नियमों का अक्षरशः पालन करेंगे और यह अनुपालित न करने पर उन्हें तत्काल प्रभाव से AIBA की सदस्यता से निलम्बित किया जा सकता है: *कोई भी सदस्य अपनी पोस्ट/लेख को केवल ड्राफ्ट में ही सेव करेगा/करेगी. *पोस्ट/लेख को किसी भी दशा में पब्लिश नहीं करेगा/करेगी. इन दो नियमों का पालन करना सभी सदस्यों के लिए अनिवार्य है. द्वारा:- ADMIN, AIBA

Home » » प्यारी सी कली जब फूल बन खिली

प्यारी सी कली जब फूल बन खिली

Written By Minakshi Pant on शुक्रवार, 25 फ़रवरी 2011 | 3:17 pm



एक प्यारा सा सन्देश बेटियों के नाम .............

तुम तो इस बगिया की 
              प्यारी सी वो कली  हो |
माँ - बाबा के प्यार से 
             अब फूल  बन खिली हो |
जिन्दगी की इस दौड़  मै 
            खुद को कम न समझना |
तुम पर ही टिकी होगी नींव  
           पर उसे विरासत न समझना |
किसी के अत्याचार को  तुम 
                 हरगिज कभी  न सहना |
पर किसी को प्यार देने से भी 
               पीछे कभी  तुम ना हटना |
 बच्चों  को प्यार देना 
                      अच्छे संस्कार देना |
कोई तुम्हें दुत्कारे तो 
                   उसका भी जवाब देना |
सबका ख्याल रखना 
                     बेचारगी  मै न जीना |
स्त्री की हिम्मत को समझना 
                      उसको बनाये रखना |
जिंदगी तो रोज़ एक सवाल है 
           तो उसका  जवाब देते रहना |
फिर अपने इस संसार को तुम 
                    एसे   खुशहाल रखना | 
दोनों घरों की इज्ज़त  को तुम.....
                      एसे  बरकरार रखना |
अपनी प्यारी सी बगिया को तुम 
                    हर दम आबाद रखना |  
सबकी दुआएं  लेना 
                       सबको दुआएं  देना |
तुमसे ही है ये दुनिया 
                 हर दम ख्याल रखना |

Share this article :

5 टिप्पणियाँ:

सलीम ख़ान ने कहा…

GR8!

वन्दना ने कहा…

बहुत सुन्दर और शिक्षाप्रद्।

शिखा कौशिक ने कहा…

shayad har maa apni beti se yahi kahtee hai .bahut sundar bhavabhivyaktee .badhai .

kkk ने कहा…

काश सभी माएँ अपनी बेटियों को इतनी शिक्षा दे पातीं !अनुसरण लायक प्रयास, बधाई हो .

Atul Shrivastava ने कहा…

अच्‍छी, भावभरी रचना।

एक टिप्पणी भेजें

Thanks for your valuable comment.