नियम व निति निर्देशिका::: AIBA के सदस्यगण से यह आशा की जाती है कि वह निम्नलिखित नियमों का अक्षरशः पालन करेंगे और यह अनुपालित न करने पर उन्हें तत्काल प्रभाव से AIBA की सदस्यता से निलम्बित किया जा सकता है: *कोई भी सदस्य अपनी पोस्ट/लेख को केवल ड्राफ्ट में ही सेव करेगा/करेगी. *पोस्ट/लेख को किसी भी दशा में पब्लिश नहीं करेगा/करेगी. इन दो नियमों का पालन करना सभी सदस्यों के लिए अनिवार्य है. द्वारा:- ADMIN, AIBA

Home » » अस्तित्व

अस्तित्व

Written By Krishan Kayat on शुक्रवार, 25 फ़रवरी 2011 | 6:00 pm


                                          (अस्तित्व)                                   ग़र तकरार ही न हो ,
                                                                    तो प्यार भी न हो ,
                         ग़र पतझड़ ही न हो ,
                                                                    तो बह़ार भी न हो ,
                           इस दुनिया में ,
                                                                कुछ   गद्दार हैं ,
                       तभी अस्तित्व में , 
                                                                 कुछ वफादार हैं ,
                       बहुते बेईमान हैं ,
                                                                 कुछ इमांदार हैं ,
                     ग़र दुनिया  में बुरे न हो ,
                                                      तो कैसे कहें फलां अच्छा है ,
                    ग़र दुनिया में झूठ न हो ,
                                                        तो कैसे कहें बयाँ सच्चा  है ,                       
                   कैसे बोलें किसी विपक्ष में ,
                                                   जब उसके पक्ष का पता न हो ,
                 कौन करे मुआफ किसी को ,
                                                  जब किसी से कोई खता न हो ,
                वो क्या राह दिखाएगा "कायत",
                                                  जिसे खुद का  अता-पता न हो , 
Share this article :

4 टिप्पणियाँ:

वन्दना ने कहा…

सोलह आने सच बात कही है……………\सुन्दर अभिव्यक्ति।

शिखा कौशिक ने कहा…

bilkul sahi kaha hai aapne .badhai .

Minakshi Pant ने कहा…

बात को प्यार से कहने का खुबसूरत अंदाज़ |

Atul Shrivastava ने कहा…

सही बात। बगैर धूप के छांव के सुकून का अंदाजा नहीं लगाया जा सकता।
अच्‍छी रचना।

एक टिप्पणी भेजें

Thanks for your valuable comment.