नियम व निति निर्देशिका::: AIBA के सदस्यगण से यह आशा की जाती है कि वह निम्नलिखित नियमों का अक्षरशः पालन करेंगे और यह अनुपालित न करने पर उन्हें तत्काल प्रभाव से AIBA की सदस्यता से निलम्बित किया जा सकता है: *कोई भी सदस्य अपनी पोस्ट/लेख को केवल ड्राफ्ट में ही सेव करेगा/करेगी. *पोस्ट/लेख को किसी भी दशा में पब्लिश नहीं करेगा/करेगी. इन दो नियमों का पालन करना सभी सदस्यों के लिए अनिवार्य है. द्वारा:- ADMIN, AIBA

Home » » कविता ----- दिलबाग विर्क

कविता ----- दिलबाग विर्क

Written By Dilbag Virk on शनिवार, 19 फ़रवरी 2011 | 6:40 pm

                                      विवशता    

 बड़ी देर से
 इंतजार था कुत्ते को 
 रोटी के टुकड़े का 
 और जैसे ही 
 इंतजार समाप्त होने को आया 
 घट गई एक अनोखी घटना 
                  मालिक के 
                  रोटी फैंकते ही 
                  एक कौआ
                  न जाने कहाँ से
                  उतरा जमीन पर 
                  झट से रोटी को
                  दबाकर चोंच में 
                  उड़ गया फुर्र से 
                  कुत्ता बेतहाशा उसके पीछे दौड़ा 
                  मगर उसकी दौड़-धूप भी 
                  कोई रंग न लाई
                  हारकर 
                  थककर
                  टूटकर
                  एक मजदूर की भाँति 
                  विवश-सा होकर
                  वह बैठ गया
                  और उससे थोड़ी दूरी पर 
                  वह कौआ 
                  पेड़ की शाख पर 
                  ऐसे ही बैठा था जैसे 
                  बैठा हो 
                  मिल मालिक कोई .

                        ***** 
           -----sahityasurbhi.blogspot.com               
Share this article :

3 टिप्पणियाँ:

वृक्षारोपण : एक कदम प्रकृति की ओर ने कहा…

वर्तमान में आम आदमी की हालत भी कुछ ऐसी ही है।
अच्छी व्यञ्जना...........


बिचौलियों का ही बोलबाला है।

एक अच्छी पोस्ट...........

शिखा कौशिक ने कहा…

har kutte ka din aata hai .ek din kauva hadbadi me hoga aur uske panje se roti ka tukda jaroor neeche girega .badhiya post .

Dr. shyam gupta ने कहा…

वाह क्या बात है मालिक और मिल मालिक,,,,

एक टिप्पणी भेजें

Thanks for your valuable comment.