नियम व निति निर्देशिका::: AIBA के सदस्यगण से यह आशा की जाती है कि वह निम्नलिखित नियमों का अक्षरशः पालन करेंगे और यह अनुपालित न करने पर उन्हें तत्काल प्रभाव से AIBA की सदस्यता से निलम्बित किया जा सकता है: *कोई भी सदस्य अपनी पोस्ट/लेख को केवल ड्राफ्ट में ही सेव करेगा/करेगी. *पोस्ट/लेख को किसी भी दशा में पब्लिश नहीं करेगा/करेगी. इन दो नियमों का पालन करना सभी सदस्यों के लिए अनिवार्य है. द्वारा:- ADMIN, AIBA

Home » , , » इतना बड़ा पटाखा

इतना बड़ा पटाखा

Written By गजेन्द्र सिंह on शनिवार, 19 फ़रवरी 2011 | 7:02 pm


दिवाली के दिनों में सब तरफ पटाखे चल रहे थे।

ऐसे में गजोधर के बच्चे ने नीचे से अपने पिताजी को जोर से आवाज दिया,

'' पिताजी आप बाल्कनी में आओ और नीचे देखो ...

देखो मै कितना बडा पटाखा जला रहा हूं''

गजोधर ने बाल्कनी से नीचे देखा और वह

""नही...."" चिल्लाता हुआ नीचे दौड पडा।

जब
गजोधर नीचे पहूंचा तो उसका बच्चा वह पटाखा जला ही रहा था

तो
गजोधर ने '' नही....'' कहते हूए उसे जोर से धक्का देकर दूर गिरा दिया।

गजोधर के बच्चे ने अपने मैले हूए कपडे झटकते हूए,

उठते हूए अपने पिताजी से पुछा,

'' क्यों क्या हुआ ?''

गजोधर ने अपने बच्चे को डांटते हूए कहा ,

'' गधे वह पटाखा नही... गेस का सिलेंडर है"
Share this article :

2 टिप्पणियाँ:

Dilbag Virk ने कहा…

mujhe to lagta jatigat aakshep bhle hi vo mzak hon , desh ka mahul bigadte hain , aapko inse bachna chahie tha
aapki post padkkar behad nirasha hui

Dilbag Virk ने कहा…

gjodhar shabd ke istemal se post men jan padh gai hai. aapne meri tippni ko skaratmk liya . esi hi aasha thi .

एक टिप्पणी भेजें

Thanks for your valuable comment.