नियम व निति निर्देशिका::: AIBA के सदस्यगण से यह आशा की जाती है कि वह निम्नलिखित नियमों का अक्षरशः पालन करेंगे और यह अनुपालित न करने पर उन्हें तत्काल प्रभाव से AIBA की सदस्यता से निलम्बित किया जा सकता है: *कोई भी सदस्य अपनी पोस्ट/लेख को केवल ड्राफ्ट में ही सेव करेगा/करेगी. *पोस्ट/लेख को किसी भी दशा में पब्लिश नहीं करेगा/करेगी. इन दो नियमों का पालन करना सभी सदस्यों के लिए अनिवार्य है. द्वारा:- ADMIN, AIBA

Home » » षटपदीय ----- दिलबाग विर्क

षटपदीय ----- दिलबाग विर्क

Written By Dilbag Virk on शनिवार, 19 मार्च 2011 | 6:11 pm

दीप जलाएं , रंग लगाएँ , हम त्योहारों में 
हर तरफ खुशियाँ फैलाएँ , हम त्योहारों में .
हम  त्योहारों  में , दें  सबको  ये  सन्देश 
भाईचारा  बने , एक  जुट  हो  जाये  देश  .
करके शिकवे दूर , सभी आ जाओ समीप 
छोटे - बड़े सबको , कहते रंग और दीप .

               * * * *
     ----- sahityasurbhi.blogspot.com 
Share this article :

2 टिप्पणियाँ:

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

आपको होली की बहुत बहुत शुभकामनाएँ!

Dr. shyam gupta ने कहा…

अच्छी कविता--मात्राओं का ध्यान रखे, देखो सही करते हैं--

दीप जलाएं , रंग लगाएँ , हम त्योहारों में, =२५
हर तरफ खुशियाँ फैलाएँ, हम त्योहारों में । =२५
त्योहारों में दे रहे,सभीको यह सन्देश, =२३+२=२५
भाईचारा बने ,एक जुट हो जाये देश । =२५
करके शिकवे दूर,सभी आजाओ नजदीक, =२४+१=२५
छोटे- बड़े सभीको , कहते रंग और दीप। =२४+१=२५

एक टिप्पणी भेजें

Thanks for your valuable comment.