नियम व निति निर्देशिका::: AIBA के सदस्यगण से यह आशा की जाती है कि वह निम्नलिखित नियमों का अक्षरशः पालन करेंगे और यह अनुपालित न करने पर उन्हें तत्काल प्रभाव से AIBA की सदस्यता से निलम्बित किया जा सकता है: *कोई भी सदस्य अपनी पोस्ट/लेख को केवल ड्राफ्ट में ही सेव करेगा/करेगी. *पोस्ट/लेख को किसी भी दशा में पब्लिश नहीं करेगा/करेगी. इन दो नियमों का पालन करना सभी सदस्यों के लिए अनिवार्य है. द्वारा:- ADMIN, AIBA

Home » » वीरानगी

वीरानगी

Written By Krishan Kayat on रविवार, 20 फ़रवरी 2011 | 2:03 pm


                                                        "वीरानगी"
                       इस वीरानी दुनिया में,
                        कुछ खवाब हसीं
                       संजोना चाहता हूँ मैं ,
                       सुख न दे सकूँगा तो क्या,
                         दुःख तो बाँट लूँगा मैं ,
                      जीवन - पथ में
                       कांटे बिछे हैं,
                         फूल न बिछा सका तो क्या,
                             कांटे तो छांट लूँगा मैं ,
                             महक उठे आलम,
                        जिनकी खुशबु से ,
                      ऐसे  फूल बोना चाहता हूँ मैं,
     इस वीरानी -------------------------------------
                   समुन्द्र में रहकर  भी ,
                    प्यासा है कोई  ,
                   महफ़िलों  में तन्हाई का,
                   बना तमाशा है कोई ,
                   दुःख भंवर से निकाल जहां को ,
                     प्रेम सागर में डुबोना चाहता हूँ मैं ,
                    इस   वीरानी दुनिया में ,
              कुछ खवाब हसीं ,संजोना चाहता हूँ मैं,
               इस वीरानी -------------------------------   
Share this article :

1 टिप्पणियाँ:

Dr. shyam gupta ने कहा…

अच्छे हसीं ख्बाव हैं,,,बधाई

एक टिप्पणी भेजें

Thanks for your valuable comment.