नियम व निति निर्देशिका::: AIBA के सदस्यगण से यह आशा की जाती है कि वह निम्नलिखित नियमों का अक्षरशः पालन करेंगे और यह अनुपालित न करने पर उन्हें तत्काल प्रभाव से AIBA की सदस्यता से निलम्बित किया जा सकता है: *कोई भी सदस्य अपनी पोस्ट/लेख को केवल ड्राफ्ट में ही सेव करेगा/करेगी. *पोस्ट/लेख को किसी भी दशा में पब्लिश नहीं करेगा/करेगी. इन दो नियमों का पालन करना सभी सदस्यों के लिए अनिवार्य है. द्वारा:- ADMIN, AIBA

Home » » अगज़ल----- दिलबाग विर्क

अगज़ल----- दिलबाग विर्क

Written By Dilbag Virk on सोमवार, 21 फ़रवरी 2011 | 6:38 pm

                     
प्यार-मोहब्बत के फरिश्तों का हमजुबां होना 
सब गुनाहों से बुरा है दिल में अरमां होना .
          अहसास की आँखों से देखी हैं रुस्वाइयाँ 
          महज़ इत्तफाक नहीं दिल का परेशां होना .
नजदीकियां भी बुरी होती हैं दूरियों की तरह 
जरूरी है कुछ फासिलों का दरम्यां होना .
          गर गरूर है उन्हें महलों का तो रहने दो 
          मेरे लिए काफी है सिर पे आसमां होना .
न जाने क्यों खुदा होना चाहते हैं लोग
काफी होता है एक इंसां का इंसां होना .
         जीना मकसद है जिंदगी का 'विर्क' जीता रह 
         क्यों चाहता है अपने कदमों के निशां होना .

                          *****
     ----- sahityasurbhi.blogspot.com
Share this article :

4 टिप्पणियाँ:

kkk ने कहा…

DIL ME ARMAN HONA GUNAH NAHI HAI SIR, KHUD KO KHUDA MAAN LENA JAROOR GUNAH HAI. BAKI ...." KAFI HAI EK INSAN KA INSAN HONA" WAH KYA KHOOB KAHA HAI. IS BHAV KE AAGE KUCHH KAHNE KO RAH HI NAHI JATA. BAHUT ACHHA.

सलीम ख़ान ने कहा…

GR8

DR. ANWER JAMAL ने कहा…

आपकी पोस्ट अच्छी लगी ।

Dr. shyam gupta ने कहा…

यार ये तो गज़ल होगयी...

एक टिप्पणी भेजें

Thanks for your valuable comment.