नियम व निति निर्देशिका::: AIBA के सदस्यगण से यह आशा की जाती है कि वह निम्नलिखित नियमों का अक्षरशः पालन करेंगे और यह अनुपालित न करने पर उन्हें तत्काल प्रभाव से AIBA की सदस्यता से निलम्बित किया जा सकता है: *कोई भी सदस्य अपनी पोस्ट/लेख को केवल ड्राफ्ट में ही सेव करेगा/करेगी. *पोस्ट/लेख को किसी भी दशा में पब्लिश नहीं करेगा/करेगी. इन दो नियमों का पालन करना सभी सदस्यों के लिए अनिवार्य है. द्वारा:- ADMIN, AIBA

Home » » "साया"

"साया"

Written By vandana gupta on शनिवार, 26 फ़रवरी 2011 | 3:55 pm

मेरे साये ने कल मुझसे कहा
किसको खोजता फिरता है तू
इधर उधर
मैं तो तेरे साथ हूँ
यहाँ कोई नही है तेरा
बाहर अपना कोई नही
जो तुझे समझ सके
फिर क्यूँ ढूंढता फिरता है
तू इन परायों में अपनों को
जब मैं तो तेरे साथ हूँ
यहाँ जीवन दो दिन का मेला है
कोई न किसी का साथी है
इस परायी बस्ती में
सिर्फ़ अपना ही मिलता नही
जो है तेरा अपना
उसको तू अपनाता नही
जो है तेरे साथ हर पल
उसको तू पहचानता नही
क्या कभी कोई अपने
साये से जुदा हो पाया है
फिर क्यूँ तू
अपने साये को पुकारता नही
यहाँ सब छोड़ जायेंगे
कोई न साथ निभाएगा
एक तेरा साया ही
सिर्फ़ तेरे साथ जाएगा
फिर क्यूँ किसी को खोजता है
मैं तो तेरे साथ हूँ
Share this article :

5 टिप्पणियाँ:

रेखा श्रीवास्तव ने कहा…

कहते हैं न कि अँधेरे में साया भी साथ छोड़ देता है, उसके भुलावे में मत आना. अकेले आये हैं और अकेले ही जाना है. मुट्ठी बाँध कर आये थे लेकिन खाली हाथ जाना है.

सदा ने कहा…

बेहतरीन प्रस्‍तुति ।

आलोकिता ने कहा…

Rekha ji ki baat se purntah sahmat hun

Dilbag Virk ने कहा…

sach ka byan karti kvita
--- sahityasurbhi.blogspot.com

Atul Shrivastava ने कहा…

अच्‍छी रचना।
अच्‍छे भाव।
पर साया भी साथ छोड देता है अंधेरे में।
रेखा की जी की बात से पूरी तरह सहमत।

एक टिप्पणी भेजें

Thanks for your valuable comment.