नियम व निति निर्देशिका::: AIBA के सदस्यगण से यह आशा की जाती है कि वह निम्नलिखित नियमों का अक्षरशः पालन करेंगे और यह अनुपालित न करने पर उन्हें तत्काल प्रभाव से AIBA की सदस्यता से निलम्बित किया जा सकता है: *कोई भी सदस्य अपनी पोस्ट/लेख को केवल ड्राफ्ट में ही सेव करेगा/करेगी. *पोस्ट/लेख को किसी भी दशा में पब्लिश नहीं करेगा/करेगी. इन दो नियमों का पालन करना सभी सदस्यों के लिए अनिवार्य है. द्वारा:- ADMIN, AIBA

Home » » अरे भई साधो......: गांधी के असली हत्यारे

अरे भई साधो......: गांधी के असली हत्यारे

Written By devendra gautam on सोमवार, 6 जून 2011 | 12:03 am

रामलीला मैदान की घटना ने यह साबित कर दिया कि विदेशी बैंकों में काला धन रखने वाले भारतीय खाताधारी काफी ताक़तवर हैं. वे अब जन आंदोलनों की धार को को बर्दाश्त करने को बिल्कुल तैयार नहीं हैं. उनकी सत्ता पर मज़बूत पकड़ है और वे दमनचक्र की किसी सीमा तक जा सकते हैं. ठीक उसी तरह जैसे पूर्व जमींदारों ने जमींदारी उन्मूलन कानून बनने के बाद भी भूमि सुधार कार्यक्रमों को अमली जामा पहनाने के सरकारी प्रयासों को अभी तक सफल नहीं होने दिया.
Share this article :

4 टिप्पणियाँ:

Dr. shyam gupta ने कहा…

bahut satik baat...

prerna argal ने कहा…

siyaasi gundon se nipatanaa aasaan nahi hai .bahut hi saarthak lekh.badhaai sweekaren.



please visit my blog/thanks.

Bhushan ने कहा…

जिन्हें स्वामी रामदेव यादव से बहुत उम्मीदें हैं, मैं उनसे सहमत नहीं हूँ. इनके आंदोलन का बाहरी दायरा या रिमोट किसी और राजनीतिज्ञ के हाथ में है.

Bhushan ने कहा…

अब कांग्रेस को चाहिए कि वह स्वामी रामदेव से बातचीत के लिए प्रणव मुखर्जी जैसे महारथी को झोंक दे इससे शायद बीजेपी का रवैया कुछ नरम पड़ जाए. देश अशांति से बच जाए :))

एक टिप्पणी भेजें

Thanks for your valuable comment.