नियम व निति निर्देशिका::: AIBA के सदस्यगण से यह आशा की जाती है कि वह निम्नलिखित नियमों का अक्षरशः पालन करेंगे और यह अनुपालित न करने पर उन्हें तत्काल प्रभाव से AIBA की सदस्यता से निलम्बित किया जा सकता है: *कोई भी सदस्य अपनी पोस्ट/लेख को केवल ड्राफ्ट में ही सेव करेगा/करेगी. *पोस्ट/लेख को किसी भी दशा में पब्लिश नहीं करेगा/करेगी. इन दो नियमों का पालन करना सभी सदस्यों के लिए अनिवार्य है. द्वारा:- ADMIN, AIBA

Home » , , » शूर्पणखा काव्य उपन्यास -- भाव भूमि..व . वन्दना -रचयिता.. डा श्याम गुप्त....

शूर्पणखा काव्य उपन्यास -- भाव भूमि..व . वन्दना -रचयिता.. डा श्याम गुप्त....

Written By shyam gupta on सोमवार, 14 फ़रवरी 2011 | 7:03 pm

   -  शूर्पणखा काव्य उपन्यास-- नारी विमर्श पर अगीत विधा खंड काव्य .....रचयिता -डा श्याम गुप्त  
                                                  
                                 विषय व भाव भूमि
              स्त्री -विमर्श  व नारी उन्नयन के  महत्वपूर्ण युग में आज जहां नारी विभिन्न क्षेत्रों में पुरुषों से कंधा मिलाकर चलती जारही है और समाज के प्रत्येक क्षेत्र में प्रगति की  ओर उन्मुख है , वहीं स्त्री उन्मुक्तता व स्वच्छंद आचरण  के कारण समाज में उत्पन्न विक्षोभ व असंस्कारिता के प्रश्न भी सिर उठाने लगे हैं |
             गीता में कहा है कि .."स्त्रीषु दुष्टासु जायते वर्णसंकर ..." वास्तव में नारी का प्रदूषण व गलत राह अपनाना किसी भी समाज के पतन का कारण होता  है |इतिहास गवाह है कि बड़े बड़े युद्ध , बर्बादी,नारी के कारण ही हुए हैं , विभिन्न धर्मों के प्रवाह भी नारी के कारण ही रुके हैं | परन्तु अपनी विशिष्ट क्षमता व संरचना के कारण पुरुष सदैव ही समाज में मुख्य भूमिका में रहता आया है | अतः नारी के आदर्श, प्रतिष्ठा या पतन में पुरुष का महत्त्वपूर्ण हाथ होता है | जब पुरुष स्वयं  अपने आर्थिक, सामाजिक, पारिवारिक, धार्मिक व नैतिक कर्तव्य से च्युत होजाता है तो अन्याय-अनाचार , स्त्री-पुरुष दुराचरण,पुनः अनाचार-अत्याचार का दुष्चक्र चलने लगता है|
                 समय के जो कुछ कुपात्र उदाहरण हैं उनके जीवन-व्यवहार,मानवीय भूलों व कमजोरियों के साथ तत्कालीन समाज की भी जो परिस्थिति वश भूलें हुईं जिनके कारण वे कुपात्र बने , यदि उन विभन्न कारणों व परिस्थितियों का सामाजिक व वैज्ञानिक आधार पर विश्लेषण किया जाय तो वे मानवीय भूलें जिन पर मानव का वश चलता है उनका निराकरण करके बुराई का मार्ग कम व अच्छाई की राह प्रशस्त की जा सकती है | इसी से मानव प्रगति का रास्ता बनता है | यही बिचार बिंदु इस कृति 'शूर्पणखा' के प्रणयन का उद्देश्य है |
                   स्त्री के नैतिक पतन में समाज, देश, राष्ट्र,संस्कृति व समस्त मानवता के पतन की गाथा निहित रहती है | स्त्री के नैतिक पतन में पुरुषों, परिवार,समाज एवं स्वयं स्त्री-पुरुष के नैतिक बल की कमी की क्या क्या भूमिकाएं  होती हैं? कोई क्यों बुरा बन जाता है ? स्वयं स्त्री, पुरुष, समाज, राज्य व धर्म के क्या कर्तव्य हैं ताकि नैतिकता एवं सामाजिक समन्वयता बनी रहे , बुराई कम हो | स्त्री शिक्षा का क्या महत्त्व है? इन्ही सब यक्ष प्रश्नों के विश्लेषणात्मक व व्याख्यात्मक तथ्य प्रस्तुत करती है यह कृति  "शूर्पणखा" ; जिसकी नायिका   राम कथा के  दो महत्वपूर्ण व निर्णायक पात्रों  व खल नायिकाओं में से एक है , महानायक रावण की भगिनी --शूर्पणखा | अगीत विधा के षटपदी छंदों में निबद्ध यह कृति-वन्दना,विनय व पूर्वा पर शीर्षकों के साथ  ९ सर्गों में रचित है |
            प्रस्तुत है---वन्दना --कुल १२ छंद ...
१-
तेरी भक्ति भाव के इच्छुक,
श्रेष्ठ कर्म रत,ज्ञान धर्म युत,
माँ तेरा आवाहन करते,
इच्छित वर उनको मिलते हैं |
कृपा दृष्टि हो माँ सरस्वती !
हों मन में नव भाव अवतरित ||
२-
तेरे बालक  को हे माता !
प्रारम्भिक अभिव्यक्ति स्वतः ही ,
हो जाती जब मातु रूप में ,
हृदय गुहा में तुझको पाता |
शुद्ध भाव से तुझे भजे तो,
परिमार्जित मेधा होजाती ||
३-
हे माँ ! जब तुम दिव्य लोक से ,
दिव्य रसों की वर्षा करती ;
निर्मल बुद्धि विवेक ज्ञान की;
सभी प्रेरणा मिलती जग को |
ज्ञान भाव से सकल विश्व को,
करें पल्लवित मातु शारदे ! 
४-
मानव  हो परमार्थ भाव  रत,
माँ जब करता तुम्हें स्मरण |
श्रेष्ठ ज्ञान के तत्व मिलें फिर,
गूढ़ ज्ञान के स्वर मिल जाते |
गूढ़ ज्ञान के सभी अर्थ माँ,
इस मन में ज्योतिर्मय करदो |
५-
ऋषियों ने माँ सप्त स्वरों को१ ,
आदि ऊर्जा२ और स्वयंभू३ ;
अनहद नाद४ से किया संगठित |
जग कल्याण हेतु माँ वाणी !
बनी बैखरी५ हुई अवतरित ,
हो जाते मन भाव उत्तरित ||
६-
भाषा के निहितार्थ समझकर ,
वाणी होती मंगलकारी |
मंगलमय वाणी-स्वर नर को.
आत्मीयता भाव सिखाये |
जब परमार्थ भाव मन बिकसे ,
माँ समृद्धि लक्ष्मी बन जाती ||
७-
भाव स्वरों के श्रेष्ठ ज्ञान से ,
तत्व ज्ञान के स्वर मिलते हैं |
फलित ज्ञान६  होजाता नर को,
तब होपाता ज्योति-दीप सा |
ज्ञान ज्योति से ज्योति जले जग,
मिटे तमिस्रा नव प्रभात हो ||
८-
सर्व ज्ञान संपन्न विविधि नर,
सभी एक से कब होते हैं७  |
अनुभव श्रृद्धा तप व भावना,
होते सबकेभिन्न  भिन्न हैं |
भरे जलाशय ऊपर समतल,
होते ऊंचे -नीचे तल में ||
९-
केवल बुद्धि ज्ञान क्षमता से 
गूढ़ ज्ञान के अर्थ न मिलते |
गूढ़ ज्ञान के तत्व प्राप्ति हित,
निर्मल मन तप  योग चाहिए |
उसी साधना रत सुपात्र को ,
गूढ़ ज्ञान का तत्व मिला है ||
१०-
एसे साधक को सुपात्र को,
मातु वाग्देवी की महिमा;
दैविक,गुरु या अन्य सूत्र से ,
मन में ज्योतित भाव जगाती |
श्रद्धा और स्नेह भाव मिल,
ज्ञान तत्व का अमृत८  मिलता ||
११-
माँ की कृपा नहीं होती है,
भक्ति भाव भी उर न उमंगते |
श्रृद्धा और स्नेह भाव भी,
उस मानस में नहीं उभरता |
भक्ति भाव उर बसे हे माता!
चरणों का मराल बन पाऊँ ||
१२-
श्रम ,विचार और कला भाव के,
अर्थ परक और ज्ञान रूप९  की;
सब विद्याएँ करें प्रवाहित,
सकल जगत में माँ कल्याणी !
ज्ञान रसातल पड़े श्याम' को
भी कुछ वाणी-स्वर-कण दो माँ !       .......क्रमश :---विनय ...अगली कड़ी में ..

( कुंजिका --१= आदि वाणी ..सरगम के सात स्वर ...२= सृष्टि के प्रारम्भ में उपस्थित आदि-ऊर्जा...३=स्वयं उत्पन्न , आदि-अनादि...४= अनंत आकाश , अंतरिक्ष में उपस्थित आदि नाद , आदि-शब्द ..५=वाणी का मुख से बोलने वाला रूप (बोली )...६= किसी भी वस्तु आदि का तत्व ज्ञान प्राप्त करके ही मानव फलित अर्थात उसका उपयोगी रूप प्रयोग में ला सकता है एवं अन्य के लिए प्रेरणा बन सकता है ....७= सर्वज्ञान संपन्न होने पर भी अपने अनुभव, तप, साधना, मनन, भावना , भक्ति व श्रृद्धा के अनुसार प्रत्येक व्यक्ति उस ज्ञान को प्रयोग में ला पाता है इसी के अनुसार ज्ञानी व विवेकी जन भिन्न भिन्न स्तर पर होते हैं ....८= प्राप्त तत्व-ज्ञान का भी मूल भाव-अमृत ---व्यक्ति व ज्ञानी को उसके तप, श्रद्धा , स्नेह , व्यवहार व  ईश्वर कृपा से ही प्राप्त होता है | ...९= श्रम परक, कलापरक, अर्थ परक, विचार परक व ज्ञान परक ---ये मूलतः पांच प्रकार की भाव-विद्याएँ होती हैं ,जिनसे सारा विश्व-व्यवहार-कार्य चलता है...)
Share this article :

2 टिप्पणियाँ:

Dilbag Virk ने कहा…

sunder sarsvti vandna ,
abhi tak jise kupater mana gya ,use nayika bnaker kavy rachna ek sahsik pryas hai , aap is pryas ke lie bdhai ke pater hain , is rachna ko padhne ke lie besabri se intzar rhega

Dr. shyam gupta ने कहा…

धन्यवाद विर्क जी--आपकी इच्छानुसार...इसे क्रमिक पोस्टों में प्रकाशित करूंगा....

एक टिप्पणी भेजें

Thanks for your valuable comment.