नियम व निति निर्देशिका::: AIBA के सदस्यगण से यह आशा की जाती है कि वह निम्नलिखित नियमों का अक्षरशः पालन करेंगे और यह अनुपालित न करने पर उन्हें तत्काल प्रभाव से AIBA की सदस्यता से निलम्बित किया जा सकता है: *कोई भी सदस्य अपनी पोस्ट/लेख को केवल ड्राफ्ट में ही सेव करेगा/करेगी. *पोस्ट/लेख को किसी भी दशा में पब्लिश नहीं करेगा/करेगी. इन दो नियमों का पालन करना सभी सदस्यों के लिए अनिवार्य है. द्वारा:- ADMIN, AIBA

Home » » कहदो प्यार मुझे तुम क्यों करते हो????..डा श्याम गुप्त का गीत .....

कहदो प्यार मुझे तुम क्यों करते हो????..डा श्याम गुप्त का गीत .....

Written By shyam gupta on रविवार, 13 फ़रवरी 2011 | 8:05 pm

कह्दो हे प्रिय ! प्यार मुझे तुम क्यों करते हो?


मेरे जगमग दीप शिखा से,
रूप के यदि प्रिय तुम हो पुजारी ।
तो फिर प्यार करो क्यों मुझसे--
पूजा करो , दिव्य दिनकर की;
जो अनंत ज्योतिमय रूप से ,
शोभित-दीपित अखिल विश्व में |.....कहदो हे प्रिय....||


मेरे इस मादक यौवन की ,
यदि चाहत है तुमको प्रियतम |
तो फिर प्यार करो क्यों मुझसे--
चाहो उस मधुऋतु  को हे प्रिय ,
जिसके यौवन की मादकता-
प्रतिपल, नित नूतन मादक है|....कहदो हे प्रिय....||


मेरे हीरे- मोती शोभित,
इस तन से यदि प्यार करो प्रिय|
तो फिर प्यार करो क्यों मुझ से?
उस असीम जलनिधि को चाहो,
जिसकी गहराई में कितने-
अगणित रत्न समाये रहते |....कहा दो हे प्रिय.....||


मेरे इस निश्छल ह्रदय को ,
यदि चाहो प्रिय तुम अपनाना |
मेरे इस विश्वास भरे मन-
को यदि चाहो अपना बनाना |


मेरी प्रीति को प्यार करो प्रिय |
तो तुम मुझको प्यार करो प्रिय |
तो मुझको मनुहार करो प्रिय |.......कहदो हे प्रिय....||


हे प्रिय निश्छल प्रीति करोड़ों ,
दिनकर से भी ज्योतिर्मय है |
पावन-निश्छल प्रेम की महक,
मादकतम ऋतु से मादक है |
सच्चे प्यार की गहराई में ,
जाने कितने रत्नाकर हैं |......कहदो हे प्रिय.....||

जो तुम इतना ज्योतित गहरा ,

मादक प्यार करो प्रिय मुझसे|
तो तुम प्यार करो मेरे प्रिय-
निश्छल प्यार भरे इस मन से |
विश्वासों से भरे ह्रदय से ,
पावन भाव भरे इस तन से ||


तो मैं तुम पर सब कुछ वारूँ ,
तन मन वारूँ, जीवन वारूँ |


कहदो हे प्रिय प्यार मुझे तुम क्यों करते हो?
कहदो मेरी प्रीति को प्यार ही तुम करते हो ||
Share this article :

3 टिप्पणियाँ:

शिखा कौशिक ने कहा…

bahut sundar bhavabhivyakti .badhai

Dr. shyam gupta ने कहा…

धन्यवाद शिखा जी---हिन्दी का ब्लोग--हिन्दी की उन्नति को है---हिन्दी का फ़ोन्ट भी डलवा लीज़िये , सुविधा रहेगी....

सलीम ख़ान ने कहा…

कहदो हे प्रिय प्यार मुझे तुम क्यों करते हो?
कहदो मेरी प्रीति को प्यार ही तुम करते हो

एक टिप्पणी भेजें

Thanks for your valuable comment.