नियम व निति निर्देशिका::: AIBA के सदस्यगण से यह आशा की जाती है कि वह निम्नलिखित नियमों का अक्षरशः पालन करेंगे और यह अनुपालित न करने पर उन्हें तत्काल प्रभाव से AIBA की सदस्यता से निलम्बित किया जा सकता है: *कोई भी सदस्य अपनी पोस्ट/लेख को केवल ड्राफ्ट में ही सेव करेगा/करेगी. *पोस्ट/लेख को किसी भी दशा में पब्लिश नहीं करेगा/करेगी. इन दो नियमों का पालन करना सभी सदस्यों के लिए अनिवार्य है. द्वारा:- ADMIN, AIBA

Home » » ग़फलत

ग़फलत

Written By Krishan Kayat on मंगलवार, 3 मई 2011 | 12:53 pm

                                                   ग़फलत
                      जाने कौन, कहाँ हूँ मैं ,
                                                              अब तलक भ्रमों में ही रहा हूँ मैं . - २ 
                    मतलब परस्त थी चाह उनकी , 
                                                                अपनों को गैर समझने लगा सनकी .
                 ग़फलत में था जिन्हें अपना जाना, 
                                                                       शिरकत में था उनकी ठुकराना .
                जानता हुए भी बहाव का रुख ,
                                                                        विपरीत दिशा में ही बहा हूँ मैं .
                 जाने कौन .........................................................................................
                        संगदिल के तंगदिल की ,
                                                                                 देखो तो जरा अदावत .
                      खुद बरपाया कहर इश्क पे ,
                                                                          इलज़ाम नाचीज पे है बगावत .
                    कैसे क़ैद रखें अरमान "कायत" ,
                                                                            जिस्म तो बंधुआ हो भी जाए .
                     साथ रहे तेरी वफाओं का सिला ,
                                                                                 जिंदगी चाहे खो भी जाए .
                      इक बार में भंगुर नहीं हुआ ,      
                                                                        पल-पल, छिन-छिन दहा हूँ मैं .
                       जाने कौन , कहाँ हूँ मैं    -  अब तलक भ्रमों में ही रहा हूँ मैं .   

                 http://krishan-kayat.blogspot.com/
Share this article :

0 टिप्पणियाँ:

एक टिप्पणी भेजें

Thanks for your valuable comment.