नियम व निति निर्देशिका::: AIBA के सदस्यगण से यह आशा की जाती है कि वह निम्नलिखित नियमों का अक्षरशः पालन करेंगे और यह अनुपालित न करने पर उन्हें तत्काल प्रभाव से AIBA की सदस्यता से निलम्बित किया जा सकता है: *कोई भी सदस्य अपनी पोस्ट/लेख को केवल ड्राफ्ट में ही सेव करेगा/करेगी. *पोस्ट/लेख को किसी भी दशा में पब्लिश नहीं करेगा/करेगी. इन दो नियमों का पालन करना सभी सदस्यों के लिए अनिवार्य है. द्वारा:- ADMIN, AIBA

Home » » अशांति

अशांति

Written By Krishan Kayat on बुधवार, 11 मई 2011 | 10:50 am

                                                   अशांति
                        तृष्णा में खोए हैं सब ,
                                            न किसी के मन को शांति है .
                 जितना पा लेता है जो ,
                                                  उतना ही खो देता है वो .
                 पाता है वो भौतिकता को ,
                                                  खो देता है नैतिकता को .
          सुख खोज रहा धन - दौलत में ,
                                                  ये उसके दिल की भ्रान्ति है .
              तृष्णा में खोए ........................................................
        "कायत" , मानवता की सोचें ,
                                              न धन के पीछे दौड़ें सब .
       प्रेम -मिलाप का सबक सीखें ,
                                             ईर्ष्या-द्वेष को छोड़ें अब .

        पहले आजादी तन की पाई ,
                                           ये मन की आजादी की क्रांति है.
         तृष्णा में खोए हैं सब , न किसी के मन को शांति है.
                                         न किसी के मन को शांति है.            
                                 

Share this article :

1 टिप्पणियाँ:

***Punam*** ने कहा…

जितना पा लेता है जो ,
उतना ही खो देता है वो .
पाता है वो भौतिकता को ,
खो देता है नैतिकता को .
सुख खोज रहा धन - दौलत में ,
ये उसके दिल की भ्रान्ति है .
तृष्णा में खोए ......

और इंसान शायद ही ये बात समझ सके..

एक टिप्पणी भेजें

Thanks for your valuable comment.