नियम व निति निर्देशिका::: AIBA के सदस्यगण से यह आशा की जाती है कि वह निम्नलिखित नियमों का अक्षरशः पालन करेंगे और यह अनुपालित न करने पर उन्हें तत्काल प्रभाव से AIBA की सदस्यता से निलम्बित किया जा सकता है: *कोई भी सदस्य अपनी पोस्ट/लेख को केवल ड्राफ्ट में ही सेव करेगा/करेगी. *पोस्ट/लेख को किसी भी दशा में पब्लिश नहीं करेगा/करेगी. इन दो नियमों का पालन करना सभी सदस्यों के लिए अनिवार्य है. द्वारा:- ADMIN, AIBA

ये आँसू

Written By Neeraj Dwivedi on शनिवार, 6 अगस्त 2011 | 8:47 pm


From: http://movingimages.files.wordpress.com


लोग कहते हैं कि ये आँसू, तो बस ख़ुशी के आँसू हैं,
हमें याद नहीं शायद, हमने ही ऐसा कभी कहा तो नहीं॥

सुबह से ही, अश्क की बातें करो, तो लोग कहते हैं,
जब से उठे हो अभी तक, हाथ मुँह धोया कि नहीं॥
जो सुबह से ही चालू हो गए...



My Blog : Life is Just A Life

Share this article :

1 टिप्पणियाँ:

POOJA... ने कहा…

subah se chaalu ho gae... ye to bahut suna-suna sa lagta hai... ya shayad roz hi sunte hai...
bahut sahi aur sateek likha hai...

एक टिप्पणी भेजें

Thanks for your valuable comment.