नियम व निति निर्देशिका::: AIBA के सदस्यगण से यह आशा की जाती है कि वह निम्नलिखित नियमों का अक्षरशः पालन करेंगे और यह अनुपालित न करने पर उन्हें तत्काल प्रभाव से AIBA की सदस्यता से निलम्बित किया जा सकता है: *कोई भी सदस्य अपनी पोस्ट/लेख को केवल ड्राफ्ट में ही सेव करेगा/करेगी. *पोस्ट/लेख को किसी भी दशा में पब्लिश नहीं करेगा/करेगी. इन दो नियमों का पालन करना सभी सदस्यों के लिए अनिवार्य है. द्वारा:- ADMIN, AIBA

Home » » खेल के नाम पर जनता के विशवास के साथ खेल

खेल के नाम पर जनता के विशवास के साथ खेल

Written By Akhtar khan Akela on गुरुवार, 1 सितंबर 2011 | 12:05 pm


जी हाँ दोस्तों देश में खेल के नाम पर जनता के साथ विश्वासघात का खेल किया जा रहा है .सारा देश जानता है के कोमन वेल्थ के नाम पर भाजपा के समर्थन से बने सुरेश कलमाड़ी ने देश में क्या खेल किया हिया इसके बाद शरद पंवार केसे क्रिकेट में बने और फिर अभी राजस्थान में सी पी जोशी पर जब कोंग्रेस के ही सांसद महेश जोशी ने हाथ साफ़ किया तो कोंग्रेस के सी पी जोशी कुछ वोटों के लियें ललित मोदी और वसुंधरा के सामने इंग्लेंड होने पर भी केसे गिडगिडाए............क्रिकेट सट्टा हो चाहे मेच फिक्सिंग हो चाहे ललित मोदी का क्रिकेट घोटाला हो सभी मामलों में देश की जनता के सामने एक सवाल है के देश की खेल संस्थाएं कहां से कितना रुपया लेती है और कहां इस रूपये को खर्च करती हैं क्या वोह रुपया जनहित में खर्च है या फिर मनामाना खर्च हो रहा है .इस बार जनता की आवाज़ पर यह पहल खुद केंद्र सरकार के खेल मंत्री अजय माकन ने किया बस अजय माकन ने संसद से चाहा के खेल संस्थाओं की स्वायत्त बरकरार रखते हुए उन्हें सिर्फ इतनी सी पाबंदी लगा दें के उनकी आमदनी और खर्च का सच वोह जनता को बता दें और यह संस्थाएं देश से कुछ भी ना छुपायें इसलियें इन्हें आर टी आई के दायरे में ले लें बस फिर क्या था भाजपा ..कोंग्रेस .ऍन सी पी एक हो गए और चोर चोर मोसेरे भाई बन कर खेल में हो रहे भ्रष्टाचार के सच को उजागर करने से केसे रोका जाए सी मामले में अपनी सारी ताकत झोंकने लगे अब सरकार और केंद्र के खेल मंत्री देश के खेलों के नाम पर खेल संस्थाओं के इस भ्रस्ताचार और भ्रष्टाचार एकता के आगे बे बस हैं ...............अख्तर खान अकेला कोटा राजस्थान
Share this article :

1 टिप्पणियाँ:

रविकर ने कहा…

ईद की सिवैन्याँ, तीज का प्रसाद |
गजानन चतुर्थी, हमारी फ़रियाद ||
आइये, घूम जाइए ||

http://charchamanch.blogspot.com/

एक टिप्पणी भेजें

Thanks for your valuable comment.