नियम व निति निर्देशिका::: AIBA के सदस्यगण से यह आशा की जाती है कि वह निम्नलिखित नियमों का अक्षरशः पालन करेंगे और यह अनुपालित न करने पर उन्हें तत्काल प्रभाव से AIBA की सदस्यता से निलम्बित किया जा सकता है: *कोई भी सदस्य अपनी पोस्ट/लेख को केवल ड्राफ्ट में ही सेव करेगा/करेगी. *पोस्ट/लेख को किसी भी दशा में पब्लिश नहीं करेगा/करेगी. इन दो नियमों का पालन करना सभी सदस्यों के लिए अनिवार्य है. द्वारा:- ADMIN, AIBA

Home » » परमात्मा दया करेगा

परमात्मा दया करेगा

Written By Brahmachari Prahladanand on सोमवार, 17 अक्तूबर 2011 | 10:48 am


.
         वो चल रहा था, अकेला, तेज़-तेज़ क़दमों से, नज़र उसकी पहाड़ की छोटी पर थी, दूर से हो दिख रही थी, लोग उसे देखते, पर अनजाना जानकार, नज़र फेर लेते, रात हुई एक गाँव के बाहर, पास में कुआं था, उसे नहाया, धोया, सत्तू साना, गुड के साथ खाया, पानी पीकर, थोड़ी दूर, पेड़ की जड़ पर, सर रखकर, सो गया, थका था, नींद बड़ी गहरी आई, करीब आधी रात के बाद, नींद टूटी, आस-पास चांदनी छिडकी थी, उठा, नहाया, धोया, उसी पेड़ के नीचे ध्यान में बैठ गया, धुप निकल आई थी, ध्यान ने गर्मी पैदा की, पसीने से तरबतर हो गया, ध्यान से उठा, कुँए से पानी लिया, कमण्डल अपना भर  लिया, आगे बड गया, चोटी दूर से दिख रही थी, चलते-चलते दस दिन के बाद, पहाड़ी के नीचे पहुंचा, तीन दिन की लगातार चढाई के बाद, ऊपर पहुंचा, एक छोटा मंदिर था, आस-पास नागों का डेरा था, थोडा डर गया था, तभी भीतर से आवाज़ गूंजी, जा सामने के मिट्टी के चबूतरे पर बैठ जा, आँख बंद कर, जब तक मैं न कहूं, उठना नहीं, डर मत यह कुछ नहीं करेंगे,

         बैठते ही इतना हकलापन, शरीर का भान ख़त्म हो गया, बैठे-बैठे, दिन पर दिन, सप्ताह पर सप्ताह, महीने पर महीने, गुज़र गए, साल भर बाद, फिर आवाज़ आई, उठ, सीधा देखना, ईधर-उधर न देखना, बस नीचे उतर जाना, उतरते-उतरते, नीचे पहुंचा, अब वो, वो नहीं था, जो गया था ऊपर, यह कोई और ही था, जैसे-जैसे लोग उसको देखते, दूरी बनाकर, उसके ओज के सामने, अपना सर झुकाते, प्रणाम करते, अब वो अनजाना नहीं था, हर कोई उसके ओज के उजियारे में, अपने सपने देखना चाहता था, अपने ख्वाब पूरे करना चाहता था, पर वो चले जा रहा था, बेखबर, दुनिया से, उसकी धुन उसने छोड़ी नहीं थी, बस वो घूमता रहता, बस्ती-बस्ती, जंगल-जंगल, वीराने में, नगर-नगर, कभी उसे किसी ने सोता न देखा, खाता न देखा, बैठा न देखा, बोलता न देखा, बस चलते देखा, बस चलते देखा, चलते-चलते, एक दिन न जाने कहाँ गायब हो गया, उसके शरीर को भी न देखा, पर जिन राहों से गुज़ारा, जिनकी नज़रों के सामने से गुज़रा, लोगों से उसके उस तेजोमय स्वरुप को आखरी वक्त तक अपनी आँखों में संजो कर रखा, अपने आने वाली पीड़ी को बताया, सोचा की काश हमको भी यह दमक से दमकता ओज मिलता, उस अनजाने ने उनके अन्दर एक ओज को पाने की आश जगा दी, एक लौ लगा दी, एक लगती हुई अग्न की लग्न लगा दी, कभी न कभी इनको भी वो ओज नसीब होगा, वो भी दूर कहीं बैठेंगे, उस ओज को अपने में पैदा करेंगे, परमात्मा उनपर भी दया करेगा, उनको भी इसी तरह, उनके जहन में आकर, उसको राह दिखायेगा |

.
Share this article :

1 टिप्पणियाँ:

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टी की चर्चा कल मंगलवार के चर्चा मंच की जी रही है!
यदि किसी रचनाधर्मी की पोस्ट या उसके लिंक की चर्चा कहीं पर की जा रही होती है, तो उस पत्रिका के व्यवस्थापक का यह कर्तव्य होता है कि वो उसको इस बारे में सूचित कर दे। आपको यह सूचना केवल इसी उद्देश्य से दी जा रही है! अधिक से अधिक लोग आपके ब्लॉग पर पहुँचेंगे तो चर्चा मंच का भी प्रयास सफल होगा।

एक टिप्पणी भेजें

Thanks for your valuable comment.