नियम व निति निर्देशिका::: AIBA के सदस्यगण से यह आशा की जाती है कि वह निम्नलिखित नियमों का अक्षरशः पालन करेंगे और यह अनुपालित न करने पर उन्हें तत्काल प्रभाव से AIBA की सदस्यता से निलम्बित किया जा सकता है: *कोई भी सदस्य अपनी पोस्ट/लेख को केवल ड्राफ्ट में ही सेव करेगा/करेगी. *पोस्ट/लेख को किसी भी दशा में पब्लिश नहीं करेगा/करेगी. इन दो नियमों का पालन करना सभी सदस्यों के लिए अनिवार्य है. द्वारा:- ADMIN, AIBA

Home » » कहते हैं कल रावण वध है .................

कहते हैं कल रावण वध है .................

Written By Akhtar khan Akela on बुधवार, 5 अक्तूबर 2011 | 9:09 pm


जी हाँ दोस्तों बुराई पर अच्छाई की जीत .....अन्याय पर न्याय की विजय का प्रतीक रावण दहन पुरे देश में कल उसका वध कर किया जाएगा हर जगह राजनीति से जुड़े लोग जिनपर भ्रष्टाचार और अन्याय अत्याचार के सेकड़ों आरोप होंगे वही रावण का वध कर उसके दहन की परम्परा को आगे बढ़ाएंगे ...................जी हाँ दोस्तों आप देख लोग हर साल हमारे देश में बुराई पर अच्छाई की जीत की इस धार्मिक परम्परा को प्रेक्टिकल कर सिखाया जाता है .....अधिकतम धर्म से जुड़े लोग जो घंटो पूजा पाठ में अपना वक्त लगाते हैं .धर्म के नाम पर कट्टर पंथी की बातें कर समाज को ज़हर घोल हिस्सों में बांटते हैं वही लोग रावण की परम्परा को आगे बढ़ते है .अभी हम देश की राजनीति को ही देख लें टू जी स्पेक्ट्रम से लेकर शक्कर घोटाले ..क्रिकेट घोटाले .....कोमन वेल्थ घोटाले से लेकर महिलाओं का अपहरण कर उनकी हत्या करने वाले मंत्रियों की पोल खुलने के बाद भी वोह जनता के सामने शेर बन कर घूम रहे हैं सारे सुबूत सारे हालात उनके खिलाफ है लेकिन यह रावण हैं के मानते ही नहीं कोई सद्भावना यात्रा निकालता है ,,,,तो कोई रथयात्रा निकालता है कोई उपवास यात्रा निकालता है कोई भ्रस्टाचार मुक्त भारत को घोषित करवाने की यात्रा निकालता है और जनता है के इन रावणों के आगे सिसक सिसक कर दम तोडती हैं इन रावणों ने देश की खुश हाली ..सुख शांति .तरक्की ...अमन सुकून .भाईचारा सद्भावना .संस्क्रती .ईमानदारी सभी को सीता माता की तरह हरण कर लिया हैं हमारे देश में रावण तो हैं लेकिन राम कोई बन नहीं पा रहा है चारो तरफ जिधर जिस पार्टी में नज़र उठाकर देखो रावण ही रावण नज़र आते है और अफ़सोस जो रावण जितना बढा है वही सत्ता में रहकर मेले दशहरे के बुराई के प्रतीक रावण का वध कर उसे जलाने की परम्परा निभाता है सब जानते है रावण का वध राम ने किया था लेकिन उसके शव का अंतिम संस्कार राक्षसों ने किया था और बस रावण का दहन भी राक्षस ही कर रहे हैं हालात यह हैं के राम राज रावण राज में खो गया है और आज या भविष्य में कोन राम बन कर इस रावण से जनता और देश को छुटकारा दिलाएगा इस सवाल का जवाब भविष्य के भूगर्भ में छुप गया है ..............तो जनाब दुआ करो फिर से बने कोई राम फिर से अवतार ले कोई राम जो वध करे देश के इस रावण का ..........अख्तर खान अकेला कोटा राजस्थान
Share this article :

1 टिप्पणियाँ:

रविकर ने कहा…

बढ़िया प्रस्तुति ||
बहुत बहुत बधाई ||

शुभ विजया ||

neemnimbouri.blogspot.com

एक टिप्पणी भेजें

Thanks for your valuable comment.