नियम व निति निर्देशिका::: AIBA के सदस्यगण से यह आशा की जाती है कि वह निम्नलिखित नियमों का अक्षरशः पालन करेंगे और यह अनुपालित न करने पर उन्हें तत्काल प्रभाव से AIBA की सदस्यता से निलम्बित किया जा सकता है: *कोई भी सदस्य अपनी पोस्ट/लेख को केवल ड्राफ्ट में ही सेव करेगा/करेगी. *पोस्ट/लेख को किसी भी दशा में पब्लिश नहीं करेगा/करेगी. इन दो नियमों का पालन करना सभी सदस्यों के लिए अनिवार्य है. द्वारा:- ADMIN, AIBA

कत्रीना कैफ - 1

Written By Pappu Parihar on शनिवार, 8 अक्तूबर 2011 | 6:25 am

कत्रीना कैफ - Katrina Kaif
  
उफ़ ये अदा,
हो गए जिस पर फ़िदा,
न रहा गुमान,
न रहा इमान,

ये जुल्फें ये नजरें,
ये होंठ ये अदा,
ये चेहरा या खुदा,
या खुदा या खुदा,

रब यह कैसी नजाकत है,
रब यह कैसी हुश्न परि है,
रब यह कैसी तुफ्लिश है,
रब यह कैसी मोहब्बत है,

हाय यह तेरा नाज़ुक बदन,
आखों की सोखियों का चमन,
लहराती जुल्फों का दामन,
मदमस्त जावानी की उफन,

.
Share this article :

1 टिप्पणियाँ:

Swarajya karun ने कहा…

आज के जमाने में उन फ़िल्मी नायक-नायिकाओं के बारे में कविता लिखना अपने कीमती वक्त की बर्बादी के सिवाय और क्या है,जो एक-एक फिल्म के लिए करोड़ों रुपयों का पारिश्रमिक लेते हैं. सिर्फ बंदरों जैसी उछल-कूद करने और कमर हिलाने के करोड़ों रूपए ? इस देश में सिर्फ छब्बीस रूपए रोज कमाने वाले व्यक्ति को गरीब नहीं माना जा रहा है ,जबकि बढती महंगाई ने गरीबों का जीना दुश्वार कर दिया है. क्या इस हालात पर कोई कविता नहीं लिखी जा सकती ?

एक टिप्पणी भेजें

Thanks for your valuable comment.