नियम व निति निर्देशिका::: AIBA के सदस्यगण से यह आशा की जाती है कि वह निम्नलिखित नियमों का अक्षरशः पालन करेंगे और यह अनुपालित न करने पर उन्हें तत्काल प्रभाव से AIBA की सदस्यता से निलम्बित किया जा सकता है: *कोई भी सदस्य अपनी पोस्ट/लेख को केवल ड्राफ्ट में ही सेव करेगा/करेगी. *पोस्ट/लेख को किसी भी दशा में पब्लिश नहीं करेगा/करेगी. इन दो नियमों का पालन करना सभी सदस्यों के लिए अनिवार्य है. द्वारा:- ADMIN, AIBA

Home » » ग़ज़ल

ग़ज़ल

Written By Ambarish Srivastava on गुरुवार, 6 अक्तूबर 2011 | 2:03 pm

ग़ज़ल  
अदब के साथ जो कहता कहन है
वो अपने आप में एक अंजुमन है

हमें धोखे दिये जिसने हमेशा
उसी के प्यार में पागल ये मन है

हुई है दिल्लगी बेशक हमीं से
कभी रोशन था उजड़ा जो चमन है

अँधेरे के लिए शमआ जलाये
जिया की बज्म में गंगोजमन है

नज़र दुश्मन की ठहरेगी कहाँ अब
बँधा सर पे हमेशा जो कफ़न है

खिले हैं फूल मिट्टी है महकती
यहाँ पर यार जो मेरा दफ़न है

कहाँ परहेज मीठे से हमें है
वो कहता यार यह तो आदतन है

ये फैशन हाय रे जीने न देगा
कई कपड़ों में भी नंगा बदन है

तुम्हारे हुस्न में फितरत गज़ब की
तभी चितवन में 'अम्बर' बांकपन है
--अम्बरीष श्रीवास्तव
Share this article :

4 टिप्पणियाँ:

S.M.HABIB (Sanjay Mishra 'Habib') ने कहा…

बहुत खुबसूरत ग़ज़ल...
अम्बरीश भाई को सादर बधाई...
सादर आभार...

वन्दना ने कहा…

बहुत सुन्दर गज़ल्।

Ambarish Srivastava ने कहा…

भाई संजय मिश्र जी ! इस ग़ज़ल को पसंद करने के लिए आपका तहे दिल से शुक्रगुज़ार हूँ !

Ambarish Srivastava ने कहा…

आदरणीया वंदना जी ! इस ग़ज़ल की तारीफ के लिए आपका तहे दिल से शुक्रिया !

एक टिप्पणी भेजें

Thanks for your valuable comment.