नियम व निति निर्देशिका::: AIBA के सदस्यगण से यह आशा की जाती है कि वह निम्नलिखित नियमों का अक्षरशः पालन करेंगे और यह अनुपालित न करने पर उन्हें तत्काल प्रभाव से AIBA की सदस्यता से निलम्बित किया जा सकता है: *कोई भी सदस्य अपनी पोस्ट/लेख को केवल ड्राफ्ट में ही सेव करेगा/करेगी. *पोस्ट/लेख को किसी भी दशा में पब्लिश नहीं करेगा/करेगी. इन दो नियमों का पालन करना सभी सदस्यों के लिए अनिवार्य है. द्वारा:- ADMIN, AIBA

Home » , » वो हमसाया बनकर

वो हमसाया बनकर

Written By Pappu Parihar on रविवार, 9 अक्तूबर 2011 | 8:42 am


.
वो हमसाया बनकर,
मेरे करीब आया,
करीब आकर,
मेरा मन बहलाया,

मन बहलाकर,
मुझे हंसाया,
मुझे हंसाकार,
उसने पटाया,

मुझे पटाकर,
सपना दिखया,
सपना दिखाकर,
दिल लगाया,

दिल लगाकर,
अपना बनाया,
अपना बनाकर,
दूर लाया,

दूर लाकर,
छोड़ आया,
फिर छोड़कर,
लेने न आया,

न आकर,
किस-किस की बनवाया,
रोज़ बनवाकर,
न जाने कितना रुलाया,


Share this article :

2 टिप्पणियाँ:

sushma 'आहुति' ने कहा…

वो हमसाया बनकर,
मेरे करीब आया,
करीब आकर,
मेरा मन बहलाया,acchi panktiya....

Neeraj Dwivedi ने कहा…

mujhe to lagta hai bahut hi sundar aur sarthak vyangy kiya hai aapne hamare sammaj me kuch neech loon dvara hone wali ek sharmnaak harkat ke liye.
My Blog: Life is Just a Life
My Blog: My Clicks
.

एक टिप्पणी भेजें

Thanks for your valuable comment.