नियम व निति निर्देशिका::: AIBA के सदस्यगण से यह आशा की जाती है कि वह निम्नलिखित नियमों का अक्षरशः पालन करेंगे और यह अनुपालित न करने पर उन्हें तत्काल प्रभाव से AIBA की सदस्यता से निलम्बित किया जा सकता है: *कोई भी सदस्य अपनी पोस्ट/लेख को केवल ड्राफ्ट में ही सेव करेगा/करेगी. *पोस्ट/लेख को किसी भी दशा में पब्लिश नहीं करेगा/करेगी. इन दो नियमों का पालन करना सभी सदस्यों के लिए अनिवार्य है. द्वारा:- ADMIN, AIBA

Home » » ब्लॉग की खबरें' में इस खबर का तुक आखिर क्या है ? और यह शीर्षक ...

ब्लॉग की खबरें' में इस खबर का तुक आखिर क्या है ? और यह शीर्षक ...

Written By DR. ANWER JAMAL on रविवार, 6 मार्च 2011 | 11:24 am

अब मैंने हमारी वाणी के बोर्ड पर नज़र डाली तो ३१ विजिटर्स दिखाते हुए सबसे ऊपर दो ब्लाग्स कि पोस्ट्स नज़र आ रही हैं.
१- कुछ अच्छे  ब्लाग्स , मेरी नज़र से - ब्लाग सूची
२- अपनी तारीफ़ सुनना सभी को अच्छा लगता है
जिन साहिबान के ब्लाग्स की ये दो पोस्ट्स हैं वे सामने आकर बताएं कि उनके ब्लाग्स के पते क्या हैं ?
अभी ब्लाग जगत के पहले समाचार पत्र  कि शुरुआत है . कुछ हाथ उनको भी तो बंटाना चाहिए जिनके ब्लाग का यहाँ प्रचार हो रहा है .
http://blogkikhabren.blogspot.com/2011/03/century.html

इसी के साथ मैं चाहता हूँ कि हमारी वाणी के सबसे ज्यादा पढ़े जाने वाली दस पोस्ट्स की जानकारी रोजाना दी जाये . जो इस ज़िम्मेदारी  को निभा सके वह सामने आये और पहली बार कुछ अद्भुत करने का गौरव पाए जिसे कि सारा ब्लाग जगत देखेगा .
आप भी इसी तरह अपनी अपनी पोस्ट्स का खुलकर यहाँ प्रचार कर सकते हैं.
कृपया यहाँ कविता और लेख की चंद लाइनें देकर उनका लिंक दे दिया कीजिये ताकि पाठक उन्हें आपके या सम्बंधित ब्लागर्स के ब्लाग पर ही  जाकर पढ़े . इस तरह हम हिन्दी ब्लागर्स की कुछ भी सेवा कर सके तो हम कामयाब माने जायेंगे .
आइये अपना हाथ बढिए .
जो लोग सदस्य बन चुके हैं वे तुरंत अपनी सेवाएँ देना शुरू कर दें.
ऐसी हमारी विनती है .
आजकल शतक का टाइम चल रहा है .
'हिंदी ब्लागर्स फोरम इंटरनेश्नल' का शतक पूरा हो चूका है और उसमें १०३ पोस्ट्स नज़र आ रही हैं .
एकता में शक्ति   के कारण ही हिंदी ब्लागर्स ने इतने कम समय में ऐसा प्रशंसनीय काम कर दिखाया है , सचमुच काबिले मुबारकबाद है पूरा समूह.

इस जैसी कोई दूसरी फोरम हिंदी ब्लाग जगत में नहीं है जहाँ कि वे लोग भी मेंबर बने  हुए हैं जो कि इस फोरम के संस्थापक के नज़रिए का घोर विरोध करते हैं .
अभिव्यक्ति कि आजादी कि रक्षा का ऐसा बेनज़ीर उदाहरण कम ही मिलता है . ब्लागिंग में अपनी कहो और फिर दुसरे की सुनो . दूसरा आपकी माने या न माने लेकिन आप अपनी ग़लत बात ज़रूर छोड़ दें अगर आपकी आत्मा जान ले कि हाँ यह बात ग़लत है. फिर इससे कोई अंतर नहीं पड़ता कि आपको ग़लती  कि सूचना देने वाला आपका मित्र है या विरोधी ?
अगर आप का पैर अंधेरे में किसी में होल में पड़ने वाला है तो आपको इसकी सूचना जो भी देता है , इस पर ध्यान देने में ही भलाई है .
सही बात कोई भी बताये उसे मान लेना चाहिए .
इस फोरम पर फिलहाल एक साथ कई मुद्दों पर बात चल रही है . आप भी देखें कि किस की बात सही है ?
http://hbfint.blogspot.com/2011/03/blog-post_3139.html 
Share this article :

3 टिप्पणियाँ:

शालिनी कौशिक ने कहा…

रूचिकर पोस्ट साथ ही प्रोत्साहित करती पोस्ट..

akhtar khan akela ने कहा…

anvr bhaai yeh sb aap hi kaa jmaal he lge rho munna bhaai sudhar zrur hogaa inshaa allaah aek din . akhtar khan akela kota rajsthan

सलीम ख़ान ने कहा…

mahamahim yah kary aap swayam apne kar-kamlon se karen !

एक टिप्पणी भेजें

Thanks for your valuable comment.