नियम व निति निर्देशिका::: AIBA के सदस्यगण से यह आशा की जाती है कि वह निम्नलिखित नियमों का अक्षरशः पालन करेंगे और यह अनुपालित न करने पर उन्हें तत्काल प्रभाव से AIBA की सदस्यता से निलम्बित किया जा सकता है: *कोई भी सदस्य अपनी पोस्ट/लेख को केवल ड्राफ्ट में ही सेव करेगा/करेगी. *पोस्ट/लेख को किसी भी दशा में पब्लिश नहीं करेगा/करेगी. इन दो नियमों का पालन करना सभी सदस्यों के लिए अनिवार्य है. द्वारा:- ADMIN, AIBA

Written By Akhtar khan Akela on बुधवार, 23 मार्च 2011 | 9:05 am

वित्तमंत्री प्रणव ने फिर महंगाई राग अलापा

वित्तमंत्री प्रणव मुखर्जी ने एक बार फिर काला बाजारियों और सटोरियों को  लाभ पहुँचाने के लियें महंगाई राग अलापा हे और अब महंगाई की माह  महंगाई का दोर शुरू हो गया हे .
कल संसद में प्रणव मुखर्जी ने कहा के विश्व की अराजकता को देखते हुए देश में भविष्य में महंगाई की सम्भावनाएं फिर बढ़ गयी हें ध्यान रहे पिछले दिनों शरद पंवार ने बयानबाज़ी करके महंगाई बढा दी थी और पेर्नव जी ने कहा था के मेरे पास कोई अलादीन का चिराग नहीं हे जबकि प्रधानमन्त्री मनमोहन सिंह ने कहा था के में लाचार मजबूर और बेबस हूँ लेकिन एक बात उस वक्त तय हो गयी थी के ऐसे नादानी भरे बयाँ जिससे काला बाजारियों और जमाखोरों के होसले बुलंद हों और वोह क्रत्रिम महगाई स्थापित करें कोई भी नेता बयानबाज़ी नहीं करेगा इस मामले में शरद पंवार ने जब दुबारा ब्यान दे दिया था तो उनसे इस्तीफे तक की मांग उठ गयी थी लेकिन यह क्या प्रणव मुखर्जी स्थिति को सम्भालने स्थिति से निपटने के बदले बस महंगाई बढाने का ब्यान दे रहे हें शायद वोह सठिया गये हें और साथ के बाद तो फिर जब सरकार ही रिटायर कर देती हे तो फिर इन लोगों को देश की कमान सम्भालने की ज़िम्मेदारी केसे दी जाना चाहिए .............. अख्तर खान अकेला कोटा राजस्थान
Share this article :

0 टिप्पणियाँ:

एक टिप्पणी भेजें

Thanks for your valuable comment.