नियम व निति निर्देशिका::: AIBA के सदस्यगण से यह आशा की जाती है कि वह निम्नलिखित नियमों का अक्षरशः पालन करेंगे और यह अनुपालित न करने पर उन्हें तत्काल प्रभाव से AIBA की सदस्यता से निलम्बित किया जा सकता है: *कोई भी सदस्य अपनी पोस्ट/लेख को केवल ड्राफ्ट में ही सेव करेगा/करेगी. *पोस्ट/लेख को किसी भी दशा में पब्लिश नहीं करेगा/करेगी. इन दो नियमों का पालन करना सभी सदस्यों के लिए अनिवार्य है. द्वारा:- ADMIN, AIBA

Home » » लघुकथा ----- जसवंत घारू

लघुकथा ----- जसवंत घारू

Written By Jaswant Gharu on बुधवार, 23 मार्च 2011 | 7:48 pm

                  अपनापन                           


 हम पाँच लोग किसी परीक्षा की तैयारी के लिए शहर में कमरा लेकर रहने लगे .हम पाँचों ही अलग- अलग गाँवों के थे , लगभग घर से 350 - 400 कि.मी. दूर . चार-पांच दिन बाद ही मेरे पेट में जोर से दर्द होने लगा . दिल करने लगा अभी घर चला जाऊं , लेकिन रात को जाऊं कैसे ? साथियों को बताने से कतरा रहा था कि पता नहीं ये लोग मेरे दर्द को समझेंगे या नहीं ? मुझे घर की याद सताने लगी . घर में होता तो परिवार के लोग मेरे आगे-पीछे होते . मेरे एक साथी ने मेरी स्थिति भांपकर मेरे स्वास्थ्य के बारे में पूछा . मैंने पेट के दर्द के बारे में बताया तो उसने मुझे डांटना शुरू कर दिया .आपने हमें पहले बताया क्यों नही , अगर आपको कुछ हो जाता तो ? बाक़ी सारे भी उठकर मेरे पास आ गए . वे मुझे ऐसे डांट रहे थे जैसे कि बड़े भाई छोटे को डांट रहें हो . उनकी आँखों में दिल की गहराई से उनके दर्द को महसूस किया जा सकता था . वे मुझे जल्दी से उठाकर अस्पताल में ले गए . मैं एक दो दिन बाद ठीक हो गया . मुझे उनमें अपनेपन की झलक दिखाई दी . मुझे ये अहसास हो गया कि अपनापन केवल परिवार के सदस्यों में ही नहीं होता ,बल्कि दूसरों में भी महसूस किया जा सकता है .  

                  * * * * *
http://jaswantgharu.blogspot.com 
Share this article :

1 टिप्पणियाँ:

योगेन्द्र पाल ने कहा…

बहुत खूब, पर इस कहानी को कोई नाम नहीं दिया आपने

अब कोई ब्लोगर नहीं लगायेगा गलत टैग !!!

एक टिप्पणी भेजें

Thanks for your valuable comment.