नियम व निति निर्देशिका::: AIBA के सदस्यगण से यह आशा की जाती है कि वह निम्नलिखित नियमों का अक्षरशः पालन करेंगे और यह अनुपालित न करने पर उन्हें तत्काल प्रभाव से AIBA की सदस्यता से निलम्बित किया जा सकता है: *कोई भी सदस्य अपनी पोस्ट/लेख को केवल ड्राफ्ट में ही सेव करेगा/करेगी. *पोस्ट/लेख को किसी भी दशा में पब्लिश नहीं करेगा/करेगी. इन दो नियमों का पालन करना सभी सदस्यों के लिए अनिवार्य है. द्वारा:- ADMIN, AIBA

Home » » हादसा,

हादसा,

Written By harish bhatt on शुक्रवार, 25 मार्च 2011 | 8:16 pm

हादसा,, हर पल रहा हैं
साथ ही तो, चल रहा हैं


धूप सर तक आ रही हैं
मोम जैसा गल रहा हैं


आज भी गुजरा हैं, ऐसे
जैसे पिछला कल रहा हैं


कश्तियाँ लौटेंगी अब तो
फिर से सूरज ढल रहा हैं


दोस्तों मुह फेर कर वो  
हाथ ही तो,,मल रहा हैं


दफ्न करदो अबतो यारों 
अब ना कोई, हल रहा हैं


(हरीश भट्ट)







Share this article :

1 टिप्पणियाँ:

akhtar khan akela ने कहा…

hrish ji bhaia bhut khubsurat andaaz or km alfaazon men bhtrin baaten khi hen mubark ho .akhtar khan akela kota rajsthan

एक टिप्पणी भेजें

Thanks for your valuable comment.