नियम व निति निर्देशिका::: AIBA के सदस्यगण से यह आशा की जाती है कि वह निम्नलिखित नियमों का अक्षरशः पालन करेंगे और यह अनुपालित न करने पर उन्हें तत्काल प्रभाव से AIBA की सदस्यता से निलम्बित किया जा सकता है: *कोई भी सदस्य अपनी पोस्ट/लेख को केवल ड्राफ्ट में ही सेव करेगा/करेगी. *पोस्ट/लेख को किसी भी दशा में पब्लिश नहीं करेगा/करेगी. इन दो नियमों का पालन करना सभी सदस्यों के लिए अनिवार्य है. द्वारा:- ADMIN, AIBA

Home » » होली की हार्दिक शुभकामनाएँ

होली की हार्दिक शुभकामनाएँ

Written By Sudhir Gupta on शनिवार, 19 मार्च 2011 | 2:37 pm

कवि सुधीर गुप्ता "चक्र"
की ओर से
आपको सपरिवार होली की हार्दिक शुभकामनाएँ।

प्रस्तुत है होली पर दो क्षणिकाएँ
(1)
होली पर हमें
उनका व्यवहार
बहुत भाता है
हमारा खर्चा बच जाता है
क्योंकि
उनके चेहरे पर
रंग डालने से पहले ही
उनका चेहरा
गुस्से से लाल हो जाता है।

(2)
जब भी
होली का दिन आता है
वह भिखारी
बडा खुश हो जाता है
क्योंकि
उसी दिन तो वह
फटे-पुराने कपडे पहनकर
समाज में गले मिल पाता है ।

आइए आज के दिन हम संकल्प लें कि दूसरों के प्रति कटुता और बुराईयों को तुरंत ही त्याग कर अपनी दोस्ती को नया आयाम दें। बिछुडे मित्रों को स्मरण करें और कुछ नए मित्र बनाएँ।
शुभकामानाओं सहित आपका सहयोगी साथी
कवि सुधीर गुप्ता "चक्र"
Share this article :

3 टिप्पणियाँ:

सलीम ख़ान ने कहा…

great !

happy holi !

सलीम ख़ान ने कहा…

आइए आज के दिन हम संकल्प लें कि दूसरों के प्रति कटुता और बुराईयों को तुरंत ही त्याग कर अपनी दोस्ती को नया आयाम दें। बिछुडे मित्रों को स्मरण करें और कुछ नए मित्र बनाएँ।

Udan Tashtari ने कहा…

आपको एवं आपके परिवार को होली की बहुत मुबारकबाद एवं शुभकामनाएँ.

सादर

समीर लाल

एक टिप्पणी भेजें

Thanks for your valuable comment.