नियम व निति निर्देशिका::: AIBA के सदस्यगण से यह आशा की जाती है कि वह निम्नलिखित नियमों का अक्षरशः पालन करेंगे और यह अनुपालित न करने पर उन्हें तत्काल प्रभाव से AIBA की सदस्यता से निलम्बित किया जा सकता है: *कोई भी सदस्य अपनी पोस्ट/लेख को केवल ड्राफ्ट में ही सेव करेगा/करेगी. *पोस्ट/लेख को किसी भी दशा में पब्लिश नहीं करेगा/करेगी. इन दो नियमों का पालन करना सभी सदस्यों के लिए अनिवार्य है. द्वारा:- ADMIN, AIBA

Home » , , , » कैसे रन्गै बनबारी...डा श्याम गुप्त.....

कैसे रन्गै बनबारी...डा श्याम गुप्त.....

Written By shyam gupta on शुक्रवार, 18 मार्च 2011 | 5:11 pm

         कैसे रंगै बनबारी.....          
              ( घनाक्षरी छंद)

सोचि-सोचि राधे हारी, कैसे रन्गै वनबारी,
कोऊ तौ न रंग चढे, नीले अंग वारे हैं  |
बैजनी बैजंती माल,पीत पट कटि डारि,
ओठ लाल लाल, लाल,नैन रतनारे हैं  |
हरे बाँस वंशी हाथ, हाथन भरे गुलाल ,
प्रेम रंग सनो 'श्याम, केश कज़रारे हैं ||
केसर अबीर रोरी,रच्यो है विशाल भाल,
रंग रंगीलो तापै, मोर-मुकुट धारे हैं  ||


सखि ! कोऊ रंग डारौ, चढिहै न लालजू पै,
क्यों न चढ़े रंग, लाल , राधा रंग हारौ है |
सखि कहो नील-तनु , चाहे श्याम-घन सखि,
तन कौ है कारौ , पर मन कौ न कारौ है ||
राधाजू दुलारौ कहौ, जन जन प्यारौ कहो ,
रंग -रंगीलो  पर मन उजियारौ है  ||
ऐरी सखि ! जियरा के प्रीति रंग ढारि  देऊ ,
श्याम रंग न्यारो चढे , साँवरो नियारो है ||

Share this article :

2 टिप्पणियाँ:

वन्दना ने कहा…

आनन्द आ गया पढकर्…………कुछ कहने मे असमर्थ हूँ।

हरीश सिंह ने कहा…

होली की हार्दिक शुभकामना.

एक टिप्पणी भेजें

Thanks for your valuable comment.