नियम व निति निर्देशिका::: AIBA के सदस्यगण से यह आशा की जाती है कि वह निम्नलिखित नियमों का अक्षरशः पालन करेंगे और यह अनुपालित न करने पर उन्हें तत्काल प्रभाव से AIBA की सदस्यता से निलम्बित किया जा सकता है: *कोई भी सदस्य अपनी पोस्ट/लेख को केवल ड्राफ्ट में ही सेव करेगा/करेगी. *पोस्ट/लेख को किसी भी दशा में पब्लिश नहीं करेगा/करेगी. इन दो नियमों का पालन करना सभी सदस्यों के लिए अनिवार्य है. द्वारा:- ADMIN, AIBA

Home » » कहीं खुद की चाल भी न भूल जाएं बाबा रामदेव

कहीं खुद की चाल भी न भूल जाएं बाबा रामदेव

Written By तेजवानी गिरधर on रविवार, 6 मार्च 2011 | 10:17 am

एक कहावत है- कौआ चला हंस की चाल, खुद की चाल भी भूल गया। हालांकि यह पक्के तौर पर अभी से नहीं कहा जा सकता कि प्रख्यात योग गुरू बाबा रामदेव की भी वैसी ही हालत होगी, मगर इन दिनों वे जो चाल चल रहे हैं, उसमें अंदेशा इसी बात का ज्यादा है।
हालांकि हमारे लोकतांत्रिक देश में किसी भी विषय पर किसी को भी विचार रखने की आजादी है। इस लिहाज से बाबा रामदेव को भी पूरा अधिकार है। विशेष रूप से देशहित में काले धन और भ्रष्टाचार के खिलाफ बोलना और उसके प्रति जनता में जागृति भी स्वागत योग्य है। इसी वजह से कुछ लोग तो बाबा में जयप्रकाश नारायण तक के दर्शन करने लगे हैं। हमारे अन्य आध्यात्मिक व धार्मिक गुरू भी राजनीति में शुचिता पर बोलते रहे हैं। मगर बाबा रामदेव जितने आक्रामक हो उठे हैं और देश के उद्धार के लिए खुल कर राजनीति में आने का आतुर हैं, उसमें उनको कितनी सफलता हासिल होगी, ये तो वक्त ही बताएगा, मगर योग गुरू के रूप में उन्होंने जो अंतरराष्ट्रीय ख्याति व प्रतिष्ठा अर्जित की है, उस पर आंच आती साफ दिखाई दे रही है। गुरुतुल्य कोई शख्स राजनीति का मार्गदर्शन करे तब तक तो उचित ही प्रतीत होता है, किंतु अगर वह स्वयं ही राजनीति में आना चाहता है तो फिर कितनी भी कोशिश करे, काजल की कोठरी में काला दाग लगना अवश्यंभावी है।
यह सर्वविदित ही है कि जब वे केवल योग की बात करते हैं तो उसमें कोई विवाद नहीं करता, लेकिन भगवा वस्त्रों के प्रति आम आदमी की श्रद्धा का नाजायज फायदा उठाते हुए राजनीतिक टीका-टिप्पणी करेंगे तो उन्हें भी वैसी ही टिप्पणियों का सामना करना होगा। ऐसा नहीं हो सकता कि केवल वे ही हमला करते रहेंगे, अन्य भी उन पर हमला बोलेंगे। इसमें फिर उनके अनुयाइयों को बुरा नहीं लगना चाहिए। स्वाभाविक सी बात है कि उन्हें हमले का विशेषाधिकार कैसे दिया जा सकता है?
हालांकि काले धन के बारे में बोलते हुए वे व्यवस्था पर ही चोट करते हैं, लेकिन गाहे-बगाहे नेहरू-गांधी परिवार को ही निशाना बना बैठते हैं। शनै: शनै: उनकी भाषा भी कटु होती जा रही है, जिसमें दंभ साफ नजर आता है, इसका नतीजा ये है कि अब कांग्रेस भी उन पर निशाना साधने लगी है। कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह ने तो बाबा रामदेव के ट्रस्ट, आश्रम और देशभर में फैली उनकी संपत्तियों पर सवाल उठाने शुरू कर दिए हैं। हालांकि यह सही है कि ये संपत्तियां बाबा रामदेव के नाम पर अथवा निजी नहीं हैं, मगर चंद वर्षों में ही उनकी सालाना आमदनी 400 करोड़ रुपए तक पहुंचने का तथ्य चौंकाने वाला ही है। बताया तो ये भी जा रहा है कि कुछ टीवी चैनलों में भी बाबा की भागीदारी है। बाबा के पास स्कॉटलैंड में दो मिलियन पौंड की कीमत का एक टापू भी बताया जाता है, हालांकि उनका कहना है वह किसी दानदाता दंपत्ति ने उन्हें भेंट किया है। भले ही बाबा ने खुद के नाम पर एक भी पैसा नहीं किया हो, मगर इतनी अपार धन संपदा ईमानदारों की आमदनी से तो आई हुई नहीं मानी जा सकती। निश्चित रूप से इसमें काले धन का योगदान है। इस लिहाज से पूंजीवाद का विरोध करने वाले बाबा खुद भी परोक्ष रूप से पूंजीपति हो गए हैं। और इसी पूंजी के दम पर वे चुनाव लड़वाएंगे।
ऐसा प्रतीत होता है कि योग और स्वास्थ्य की प्रभावी शिक्षा के कारण करोड़ों लोगों के उनके अनुयायी बनने से बाबा भ्रम में पड़ गए हैं।   उन्हें ऐसा लगने लगा है कि आगामी चुनाव में जब वे अपने प्रत्याशी मैदान उतारेंगे तो वे सभी अनुयायी उनके मतदाता बन जाएंगे। योग के मामले में भले ही लोग राजनीतिक विचारधारा का परित्याग कर सहज भाव से उनके इर्द-गिर्द जमा हो रहे हैं, लेकिन जैसे ही वे राजनीति का चोला धारण करेंगे, लोगों का रवैया भी बदल जाएगा। आगे चल कर हिंदूवादी विचारधारा वाली भाजपा को भी उनसे परहेज रखने की नौबत आ सकती है, क्योंकि उनके अनुयाइयों में अधिसंख्य हिंदूवादी विचारधारा के लोग हैं, जो बाबा के आह्वान पर उनके साथ होते हैं तो सीधे-सीधे भाजपा को नुकसान होगा। कदाचित इसी वजह से 30 जनवरी को देशभर में भ्रष्टाचार के खिलाफ जनयुद्ध अभियान के तहत निकाली गई जनचेतना रैलियों को भाजपा या आरएसएस ने खुल कर समर्थन नहीं दिया। बाबा रामदेव के प्रति व्यक्तिगत श्रद्धा रखने वाले लोग भले ही रैलियों में शामिल हुए हों, मगर चुनाव के वक्त वे सभी बाबा की ओर से खड़े किए गए प्रत्याशियों को ही वोट देंगे, इसमें तनिक संदेह ही है। इसकी एक वजह ये है कि वे योग गुरू के रूप में भले ही बाबा रामदेव को पूजते हों, मगर राजनीतिक रूप से उनकी प्रतिबद्धता भाजपा के साथ रही है।
जहां तक देश के मौजूदा राजनीतिक हालात का सवाल है, उसमें शुचिता, ईमानदारी व पारदर्शिता की बातें लगती तो रुचिकर हैं, मगर उससे कोई बड़ा बदलाव आ जाएगा, इस बात की संभावना कम ही है। ऐसा नहीं कि वे ऐसा प्रयास करने वाले पहले संत है, उनसे पहले करपात्रीजी महाराज और जयगुरुदेव ने भी अलख जगाने की पूरी कोशिश की, मगर उनका क्या हश्र हुआ, यह किसी ने छिपा हुआ नहीं है।  इसी प्रकार राजनीति में आने से पहले स्वामी चिन्मयानंद, रामविलास वेदांती, योगी आदित्यनाथ, साध्वी ऋतंभरा और सतपाल महाराज के प्रति कितनी आस्था थी, मगर अब उनमें लोगों की कितनी श्रद्धा है, यह भी सब जानते हैं। कहीं ऐसा न हो कि बाबा रामदेव भी न तो पूरे राजनीतिज्ञ हो पाएं और न ही योग गुरू जैसे ऊंचे आसन की गरिमा कायम रख पाएं।
-गिरधर तेजवानी, अजमेर
Share this article :

3 टिप्पणियाँ:

akhtar khan akela ने कहा…

shi or stik khaa . akhtar khan akela kota rajsthan

अरविन्द शुक्ल ने कहा…

सफलता या असफलता के भय से यदि भारत के निर्माण में योगदान कर सकने वाले लोग भी भारतीय राजनीति के सुधार में योगदान नहीं देंगे तो फिर देश का पतन ही होगा .. अभी तक हम इन भ्रष्ट राजनेताओं की पीठ पीछे भत्सना करते आ रहे हैं मगर इनके मुह में सच्चाई बोलने का साहस नहीं रखते ..ऐसे में यदि कोई रामदेव जी जैसा रास्ट्र भक्त देश हित की बात करता है मुह में सत्य बोलते है तो लोगों के मिर्ची क्यों लग रही है ... क्रांति के नायक अंजाम की परवाह नहीं करते ..नहीं तो यह देश आज भी गुलाम होता ..इस देश की आजादी के लिए लाखों लोगों ने जान दी है ..क्या उनका योगदान किसी तथाकथित परिवार के योगदान से कमतर है फिर सारी योजनाओं का नामकरण इन्ही लोगो के नाम क्यों ...भगत सिंह .चंद्रशेखर , आदि के नाम क्यों नहीं ..बड़ी मुश्किल से जनता को एक सुशासन का पथप्रदर्शक मिला है ..निश्चित रूप से भारत एक बड़े परिवर्तन के मोड़ पर है कोई बड़ा बदलाव आ जाएगा, इस बात की पूरी संभावना है ... आप यदि आप देश के सच्चे नागरिक हैं तो अपनी कलम से लोगों में इस विषय पर विस्वाश ही बढ़ाएं, न की शंकाएं .. सच्ची बात बुरी लगेगी ,भ्रष्ट लोग चिल्लायेगें क्योकि चोर की दाढ़ी में तिनका जो है ..नहीं तो नार्को परिक्षण करा कर नेता लोग अपनी बेगुनाही सिद्ध कर दें ..रामदेव जी चाहे योग कराये या अपने रास्ट्र धर्म का निर्वाह करते हुए राजनीति करे किसी को भी आपत्ति नहीं होनी चाहिए और वह यदि चोर को चोर कह रहे हैं तो यह किसी भी रूप में भी गलत नहीं है ......हमें आजादी प्राप्त करने में वर्षों लग गए थे फिर उनसे पहले करपात्रीजी महाराज और जयगुरुदेव, स्वामी चिन्मयानंद, रामविलास वेदांती, योगी आदित्यनाथ, साध्वी ऋतंभरा और सतपाल महाराज के उदाहरण की भी जरूरत नहीं है वह पूरे राजनीतिज्ञ हो पायेगे और न ही योग गुरू इसकी कल्पना आप न करे ..समय खुद सब बताएगा .रामदेव जी जैसा रास्ट्र भक्त अपने आसन की गरिमा भलीभांति जानते है .बाबा आप संघर्ष करो यह देश आपके साथ है..

> आपका लेख पढ़ कर यही कहने की इच्छा है कि" सफलता या असफलता के भय से यदि भारत के निर्माण में योगदान कर सकने वाले लोग भी भारतीय राजनीति के सुधार में योगदान नहीं देंगे तो फिर देश का पतन ही होगा" .

क्रांतिकारी हिन्दोस्तानी देशभक्त ने कहा…

अविन्द शुक्ल जी ने सही तो कहा की क्रान्ति के नायक अंजाम की परवाह नहीं करते वो तो बस अपना काम कर देते हैं आगे जो हो वो नहीं सोचते नफे नुक्सान की बात तो व्यापारी व् सोदागर सोचा करते हैं मैं तो सलीम खान व् अख्तर खान अकेला जी को यही कहना चाहूँगा की आप भी अगर भारत माँ को प्यार करते हैं तो अपनी लेखनी को थोड़ा सा भी देश हित में यूज करके लोगों में अशान्काए फैलाने की जगह विश्वाश फैलाएं इसमें कहीं ना कहीं जाकर आपका भी देश हित होगा, वैसे आप ना भी करें तो भी बाबा रामदेव जी का अभियान परिवर्तन तो लाएगा ही तब आप क्या लिखोगे फिर ?
मेरा तो नारा है "बाबा संघर्ष करो हम तुम्हारे साथ है" जय हिंद , बंदे मातरम

संजय राणा हिमाचल बद्दी सोलन

एक टिप्पणी भेजें

Thanks for your valuable comment.