नियम व निति निर्देशिका::: AIBA के सदस्यगण से यह आशा की जाती है कि वह निम्नलिखित नियमों का अक्षरशः पालन करेंगे और यह अनुपालित न करने पर उन्हें तत्काल प्रभाव से AIBA की सदस्यता से निलम्बित किया जा सकता है: *कोई भी सदस्य अपनी पोस्ट/लेख को केवल ड्राफ्ट में ही सेव करेगा/करेगी. *पोस्ट/लेख को किसी भी दशा में पब्लिश नहीं करेगा/करेगी. इन दो नियमों का पालन करना सभी सदस्यों के लिए अनिवार्य है. द्वारा:- ADMIN, AIBA

Home » »

Written By Akhtar khan Akela on शुक्रवार, 11 मार्च 2011 | 4:45 pm

ब्लॉग दुनिया के माई लोर्ड भाई दिनेश द्विवेदी

ब्लॉग दुनिया के माई लोर्ड भाई दिनेश द्विवेदी ,
जी हाँ  दोस्तों बारा जिले में एक पंडित परिवार में जन्मे दिनेश राय द्विवेदी का बचपने से ही पढने और लिखने का शोक रहा हे और इसीलियें विचारों की इनकी स्वतन्त्रता ,भूख और गरीबी के प्रति इनके इस दर्द ने द्विवेदी भाई को पंडित से कोमरेड बना दिया , प्रारम्भ की शिक्षा बरान में पूरी करने के बाद भाई द्विवेदी जी ने कोटा से वकालत की परीक्षा पास की और फिर पहले पत्रकारिता शुरू की फिर कवि बने फिर लेखक बने और फिर मजदूर नेता के रूप में कोमरेड की पहचान बनाई और अब वकालत कर रहे हें , अरे हाँ एक बात तो में भूल ही गया इस बीच भाई द्विवेदी जी पुत्र से पति और फिर एक पुत्र एक पुत्री के पिता बन गये .विचारों से हमेशा स्वतंत्र रहने वाले खुद की सोच स्थापित रखने वाले भाई द्विवेदी जी अपनी बात बेबाकी से कहने के लियें मशहूर हे . 
वेसे तो मेरा भाई द्विवेदी जी से कई वर्षों का सम्पर्क हे पत्रकारिता के कार्यकाल से में इन से वाकिफ हूँ लेकिन बस एक मजदूर नेता एक वकील एक पत्रकार एक कवि और एक जनवादी लेखक के रूप में ही मेरा इन जनाब से मेरा परिचय था लेकिन में नोसिखिया था और जब ब्लोगिंग की दुनिया में आया तो मेने ब्लॉग पर भाई द्विवेदी जी का जब काम देखा तो मेरी आँखें फटी की फटी रह गयीं एक वकील और पत्रकार होने के नाते में खूब जानता था के वकील की कितने व्यस्तताएं  होती हे उनकी कितनी मर्यादाएं होती हे और फिर इन सब के बावजूद भी  द्विवेदी भाई ने ब्लॉग की दुनिया में चमत्कार कर रखा था हर ब्लॉग पर द्विवेदी जी की जय जय कार थी और अदालत से अदालत तक के ब्लॉग के सफर के बाद देश भर के कानूनों को इन भाई द्विवेदी जी ने ब्लॉग की दुनिया में लिख डाला इनके ब्लॉग पर कानून की सभी तरह की जानकारी और हर विभाग से लिंक बनाया गया . 
फिर तीसरा खम्बा ऐसा बनाया जिसपर ब्लॉग की दुनिया को द्विवेदी जी खड़ा करते गये और फिर पीछे मुद कर इन्होने नहीं देखा , ब्लॉग की दुनिया मने इंटरनेट के जरिये लोगों के विधिक सवालों के जवाब देने वाले भाई द्विवेदी पहले इंटरनेट ब्लोगर बने और आज काई विधिक सवाल इनके पास लोग अपनी जिज्ञासा या परेशानियां दूर करने के लियें भेज कर उनका समाधान खोजते हें ,द्विवेदी जी ने अनवरत शुरू किया और फिर अनवरत जारी इस ब्लॉग में बहतरीन लेख सुझाव जब लिखे गये तो यह ब्लोगिंग की दुनिया के हर दिल अज़ीज़ हो गये भाई दिनेश जी ब्लॉग की दुनिया में खुशदीप जी , शाहनवाज़ जी , सतीश सक्सेना, ललित शर्मा जी सहित कई ब्लोगरों से बहुत प्रभावित हें इनका ब्लॉग मायद हाडोती हाडोती की संस्क्रती की याद दिलाता हे आब तक हजारों ब्लॉग लिखने वाले भाई द्विवेदी जी का मकान का काम बारा रोड कोटा में चल रहा हे इस काम की व्यस्तता के बाद भी यह जनाब हमारी सादा जीवन उच्च विचार वाली भाभी जी के साथ  मिलकर ब्लोगिंग करते हें और अब यह सभी विधा में पारंगत हो जाने के बाद ब्लॉग गुरु भी बन गये हें भाई द्विवेदी के लेखों में जितनी गम्भीरता जितना ज्ञान हे जाहिरा तोर पर द्विवेदी जी इतने ही खुश मिजाज़ एकड़ दुरे के मदद गार हें वोह हर किसी के सुख दुःख में साथ रहते हें और उनकी ब्लोगिंग कला की वजह से ही द्विवेदी जी को पिछले  दिनों ब्लोग्वानी का सलाहकार बनाया गया हे ब्लॉग की दुनिया को द्विवेदी जी से  बहुत उम्म्मिदें हें और वोह ब्लोगर्स और प्रशंसकों की हर कसोटी पर खरा उतर रहे हें उनकी एक ख़ास बात वोह बहुत  कम प्रबावित होते हें और जब पूरी तरह से संतुष्ट हो जाते हे तो फिर वोह उसी के हो जाते हें यानी हर काम वोह ठोक बजा कर करना चाहते हें और इसीलियें वोह बुलंदियों पर हें अपनी बात वोह दमदारी  से कहने के लियें विख्यात हें फिर चाहे कोई उनकी बात से सहमत हो या नहीं उनकी इस साफ़ गोई की वजह से कई बार उनसे कुछ लोगों का अनावश्यक टकराव भी हो जाता हे , उनकी इन खूबियों ने उन्हें ब्लॉग दुनिया में एक केंची देकर माई लोर्ड बना दिया हे . अख्तर खान अकेला कोटा राजस्थान  
Share this article :

0 टिप्पणियाँ:

एक टिप्पणी भेजें

Thanks for your valuable comment.