नियम व निति निर्देशिका::: AIBA के सदस्यगण से यह आशा की जाती है कि वह निम्नलिखित नियमों का अक्षरशः पालन करेंगे और यह अनुपालित न करने पर उन्हें तत्काल प्रभाव से AIBA की सदस्यता से निलम्बित किया जा सकता है: *कोई भी सदस्य अपनी पोस्ट/लेख को केवल ड्राफ्ट में ही सेव करेगा/करेगी. *पोस्ट/लेख को किसी भी दशा में पब्लिश नहीं करेगा/करेगी. इन दो नियमों का पालन करना सभी सदस्यों के लिए अनिवार्य है. द्वारा:- ADMIN, AIBA

Home » » आज का प्रेरक वाक्य....डा श्याम गुप्त.....

आज का प्रेरक वाक्य....डा श्याम गुप्त.....

Written By shyam gupta on बुधवार, 9 मार्च 2011 | 9:29 am


             भारतवर्ष का धर्म उसके पुत्रों से नहीं , उसकी संस्कारवान कन्याओं से ठहरा हुआ है | यदि भारत की रमणियाँ अपना धर्म छोड़ देतीं तो अब तक भारत नष्ट होगया होता |
                                         ---महर्षि दयानंद सरस्वती .....
Share this article :

3 टिप्पणियाँ:

Hema Nimbekar ने कहा…

bahut sunder vakya hai yeh...dhynavaad share karne ke liye...

Dr. shyam gupta ने कहा…

धन्यवाद हेमाजी...

PRIYANKA RATHORE ने कहा…

sach baat hai...bahut khoobsurat...aabhar

एक टिप्पणी भेजें

Thanks for your valuable comment.