नियम व निति निर्देशिका::: AIBA के सदस्यगण से यह आशा की जाती है कि वह निम्नलिखित नियमों का अक्षरशः पालन करेंगे और यह अनुपालित न करने पर उन्हें तत्काल प्रभाव से AIBA की सदस्यता से निलम्बित किया जा सकता है: *कोई भी सदस्य अपनी पोस्ट/लेख को केवल ड्राफ्ट में ही सेव करेगा/करेगी. *पोस्ट/लेख को किसी भी दशा में पब्लिश नहीं करेगा/करेगी. इन दो नियमों का पालन करना सभी सदस्यों के लिए अनिवार्य है. द्वारा:- ADMIN, AIBA

Home » , » रिश्वत

रिश्वत

Written By rajender singh on मंगलवार, 8 मार्च 2011 | 11:37 am

हमार देशमा सरकारी कार्यालय मा बैठन वाल अधिकारी बाबू बहुत अच्छे और ईमानदारी पुर्वक कार्य करन वाल है। हम काहे उनकी बुराई करे। हम तो बस उनके गुण बयां कर रहे है। हां! तो हम कह रहे थे हमार देश का अधिकारी रिश्वत नाही लेते है आप सीधे जाकर अधिकारी बाबू को रिश्वत तो देने के नाही और ना वे आपसे कहेगे। उनकी तरफ से जानकारी देइबो उनका पर्सनल सैक्ट्ररी कम चपरासी। चलिये हम आपको हम एक किस्सा चौधरी साहब का सुनाये देत है।चौधरी साहिब सरकारी कार्यालवा मे..........
अधिकारी बाबू से, नमस्कार साहब, हमार एक फाईलवा है जरा हमरी समस्या का हल बताइ दो। देखिये हमार पास इतना वक्त तो है नाही जो च्क्करवा काटत रहे। अधिकारी बाबू, ऐसा करिये आप हमार चपरासी रामदीनवा से मिल लई लो वो सब समझाई दइगे। चपरासी, देखिये चौधरी जी, साहब से काम निकलवाना है तो हमका पैईसे देइ दो तुम्हार काम होई जाइगा। काहे चिन्ता करत हो। चौधरी साहब, का पैइसे!(अचभे में)।चपरासी, हां चौधरी साहिब आपका काम भी तो हैइ ना, आपके जैसे कई चौधरी हमार पास आईत रहत है और पैईसा देकर काम करात है।चौधरी, मन मन मे बुदबुदाते हुए अरे ससुरा हम जैइसा लोगन ही इनका मुह लगाई हूं दुसरे हमरे पास टाइमव नाही है। मरता ना क्या करता। (पैईसे देते हुऐ) भई देण तो पणेगे ही चल भईये तु भी राख ले पर हमार काम तो हो जाईगो। चपरासी बाबू दिलासा देते हुए, अरे चौधरी साहब तुम्हार काम हो गई समझो। चौधरी साहिब आप जैइसे लोगनवा के कारण ही हमार जिन्दगी ठीक चाल राही है क्यूकि आपके पास टाइमवा की दिक्कत हैइ इसलिये आप जइसे लोगन अपणा काम पैइसे देकर निकलवाई लेत है।तभी चौधरी साहब ने एक गरीब आदमी को देखा उसका काम भी इसी कार्यालय मे ही था।चपरासी उसके पास जाकर, अरे का काम है।गरीब आदमी गिड़गिड़ाकर, साहब हम गरीब आदमी हैई, हमार साहब से मिलवाई दो कल भी साहब नाही थे, तुम्ह ही हमका आज बुलाइ थे।चपरासी नाक सिकोड कर, अरे आज कहां कहे थे वैइसे भी साहब अभी वयस्त है कल सुबह आईये रे, चल वक्त कु बरबाद ना कर। गरीब रोते हुऐ, साहब हमका मिलवाई दओ, हमका चककर काटत-काटत साल भर होइ गये।चपरासी कुढते हुए, अरे तुमका सुनाई देत नही है का, साहब अभी वयस्त है। गरीब आदमी डरते हुऐ, हमरे पास जो भी हैइ वो लइलो।चपरासी खुश होकर, का लाये हो, दिखाओ तो हमका।गरीब आदमी कुछ चिल्लर निकालकर, लो साहब।चपरासी लताड़ते हुए, हमका का भिखारी समझे हो। चलो कल आणा वरना यही बैठे रहो हमार का जात है।चौधरी साहब अभी तक यह देखण खातिर रूके थे कि गरीब के साथ का होत है। उन्होने मन ही मन सोचा, जो गरीब हैई उनका एइसा हाल होत है। खैर हमार का मतलब है गरीबो से, हमरा काम निकल जाइबो बाकि भाड़ मे जाइबो।इतने मे अधिकारी बाबू भी बाहर आ गये और चौधरी साहब का रूका देख बोल पड़े चौधरी साहब, आप किसकी खाततर रूके हऐ है।चौधरी साहब, अरे कुछ नाहि हम तो या आदमी को देखण रूके थे। अधिकारी बाबू, अरे काहे इन गरीब लोगण के चक्करवा मे पड़ते हो, चलिये हमरी ओर से चाय पिलाईते है। दोनो चाय पीने के लिये चले जाते है और गरीब अपनी गरीबी को कोसता हुआ खुद को दिलासा देता हुआ कल का इंतजार करता है। शायद कभी तो कल आयेगा।.
Present by
Rajender Singh
Blog: http://rsnagie.blogspot.com
Share this article :

0 टिप्पणियाँ:

एक टिप्पणी भेजें

Thanks for your valuable comment.