नियम व निति निर्देशिका::: AIBA के सदस्यगण से यह आशा की जाती है कि वह निम्नलिखित नियमों का अक्षरशः पालन करेंगे और यह अनुपालित न करने पर उन्हें तत्काल प्रभाव से AIBA की सदस्यता से निलम्बित किया जा सकता है: *कोई भी सदस्य अपनी पोस्ट/लेख को केवल ड्राफ्ट में ही सेव करेगा/करेगी. *पोस्ट/लेख को किसी भी दशा में पब्लिश नहीं करेगा/करेगी. इन दो नियमों का पालन करना सभी सदस्यों के लिए अनिवार्य है. द्वारा:- ADMIN, AIBA

Home » »

Written By Akhtar khan Akela on मंगलवार, 19 अप्रैल 2011 | 9:06 pm

समाज सुधार के लियें ब्लोगिगं कर रहे हैं डॉक्टर रूपचंद शास्त्री मयंक


ब्लोगिगं की दुनिया में पिछड़ों के लियें सुधार की योजनाएं तय्यार करते है डॉक्टर रूपचंद   ब्लोगिंग की दुनिया में पिछड़ों के लियें सुधार की योजनायें लागु करने और उन्हें इन्साफ दिलवाने  वाले डॉक्टर रूपचंद शास्त्री मयंक जहां ब्लोगिगं को अपने अल्फाजों से रूपवान कर खुबसूरत बना रहे हैं वहीँ अपने ज्ञान से शास्त्री बनकर सभी उम्र के ब्लोगर भाइयों को सच्चाई का पाठ भी पढ़ा रहे हैं .
ब्लोगिंग की दुनिया में  हर दिल अज़ीज़ बने भाई रूपचंद जी का जन्म ४ फरवरी को उत्तर प्रदेश में हुआ , इनका बचपन खटीमा में गुजरा और फिर भाई  रूपचंद ने एम ऐ हिंदी और संस्कृत में किया , डॉक्टर यानी चिकित्सक जो ओपरेशन टेबल पर मरीजों को तडपता देख कर अपने जादू से उनके दुःख दूर कर देता है वही डॉक्टर अगर अपने अल्फाजों से लोगों के जीवन को संवारने उसे सुधारने के प्रयास करने लगे तो ऐसे ब्लोगर को समाज सेवक नहीं तो और क्या कहेंगे , जी हाँ इन जनाब रूप चंद जी को डोक्टर की डिग्री लेने के बाद भी सुख चेन नहीं मिला और यह संस्क्रत में एम ऐ  कर शास्त्री बन गए हिंदी में एम ऐ कर साहित्यकार  बन गये  ,जनता की सेवा की ,खासकर दलित और पिछड़ों के  उत्थान के लियें काम किया और इनके काम काज सेवा भाव को देखकर उत्तराखंड  सरकार में डॉक्टर रूपचंद जी को २००५ से २००८ तक अन्य पिछड़ा वर्ग आयोग का सदस्य बनाया गया जहां इन जनाब ने लोगों के दुःख दर्द को समझा उनका निदान किया और फिर लेखन की दुनिया में शामिल हो गए पत्रकारिता और सम्पादन विधा के धनी डोक्टर साहब ने १९९६ से २००४ तक उच्चारण पत्रिका का सम्पादन किया इन्होने सुख का सूरज और नन्हे सुमन पुस्तक का लेखन भी किया . दलितों ,पिछड़ों और पीड़ितों के सेवक रहे डॉक्टर रूपचंद जी वेदशास्त्र अधिक पढ़ना पसंद करते हैं और आर्यसमाज विचारधारा से प्रभावित हैं . 
डॉक्टर रूपचन जी काफी लम्बे वक्त से ब्लोगिंग की दुनिया में अपने हुनर और अल्फाजों के जरिये ज्ञान बाँट रहे हैं अमर भारती .....उच्चारण ..............एग्रीगेटर.........ब्लोगमंच ..चर्चा मंच .......नन्हे सुमन ..बाल चर्चा मंच ...शब्दों का दंगल .. क्रति से यूनिकोड ..यूनिकोड से क्रति ...सम्पादन ब्लॉग के मालिक डोक्टर रूपचंद के हर वर्ग हर आयु से जुड़े लोगों के लियें ब्लॉग हैं यह ब्लॉग मंच पर चर्चा मंच पर सभी ब्लोगर भाईयों को स्थान देते हैं उन्हें नवाजते हैं उन्हें प्यार देते हैं एक दुसरे से एक दुसरे को मिलाते हैं ,तो यही ब्लोगर नन्हे सुमन में बच्चों के लियें लिखते वक्त बच्चे बन जाते हैं , एक ब्लोगर जो कभी बच्चा ,कभी  बूढा  ,कभी शिक्षक ,कभी सेवक ,कभी मार्गदर्शक ,कभी पंडित ,कभी लेखक तो कभी कवि बन जाए तो उसे महाज्ञानी अगर कह दिया जाए तो कोई बढ़ी बात नहीं है इसीलियें डॉक्टर रूपचंद जी मयंक ब्लोगिंग की दुनिया के हरफन मोला ,हर दिल अज़ीज़ महाज्ञानी  ब्लगर हैं जिनसे सभी ब्लोगर भाइयों को कुछ ना कुछ सीखने को जरुर मिलता है और ऐसे ब्लोगर को मेरा सलाम ................................. अख्तर खान अकेला कोटा राजस्थान
Share this article :

4 टिप्पणियाँ:

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

तारीफ कुछ ज्यादा ही हो गई है!
आभार व्यक्त करता हूँ एडवोकेट अख्तर शान अकेला जी का!

डॉ० डंडा लखनवी ने कहा…

डॉक्टर रूपचंद शास्त्री "मयंक" की कर्तव्य-निष्ठा से मैं लगभग तीस वर्षों से परिचित हूँ। जिन मानवीय मूल्यों की स्वामी दयानंद जी ने पौध रोपी थी शास्त्री जी उसे बड़े यत्न से सीच रहे है। उनकी जीवटता को प्रणाम!
सद्भावी -डॉ० डंडा लखनवी

हल्ला बोल ने कहा…

क्या आप सच्चे हिन्दू हैं .... ? क्या आपके अन्दर प्रभु श्री राम का चरित्र और भगवान श्री कृष्ण जैसा प्रेम है .... ? हिन्दू धर्म पर न्योछावर होने को दिल करता है..? सच लिखने की ताकत है...? महाराणा प्रताप, छत्रपति शिवा जी, स्वामी विवेकानंद, शहीद भगत सिंह, मंगल पांडे, चंद्रशेखर आजाद जैसे भारत पुत्रों को हिन्दू धर्म की शान समझते हैं, भगवान शिव के तांडव को धारण करते हैं, भारतीय संस्कृति का सम्मान करने वाले हिन्दू हैं. तो फिर एक बार इस ब्लॉग पर अवश्य आयें. जय श्री राम
हल्ला बोल

सलीम ख़ान ने कहा…

haLLA BOL

एक टिप्पणी भेजें

Thanks for your valuable comment.