नियम व निति निर्देशिका::: AIBA के सदस्यगण से यह आशा की जाती है कि वह निम्नलिखित नियमों का अक्षरशः पालन करेंगे और यह अनुपालित न करने पर उन्हें तत्काल प्रभाव से AIBA की सदस्यता से निलम्बित किया जा सकता है: *कोई भी सदस्य अपनी पोस्ट/लेख को केवल ड्राफ्ट में ही सेव करेगा/करेगी. *पोस्ट/लेख को किसी भी दशा में पब्लिश नहीं करेगा/करेगी. इन दो नियमों का पालन करना सभी सदस्यों के लिए अनिवार्य है. द्वारा:- ADMIN, AIBA

Home » » समुद्र के किनारे परे वो सीप

समुद्र के किनारे परे वो सीप

Written By नीलांश on शनिवार, 23 अप्रैल 2011 | 11:58 am


समुद्र के किनारे परे वो सीप

समुद्र के किनारे परे वो सीप 
आते हैं समुद्र के लहरों से निकलकर
चुनता है कोई उसे 
पिरोता है मालों में
कोई ले जाता है उसकी सुन्दरता से मुग्ध होकर 
फिर बढ़ाते हैं वो शोभा घर की 
वो सीप जो कभी किसी जीव का रक्षा कवच था 
आज शोभा बढा रहा है किसी के घर का 
अपने पालक होने का अस्तित्व निभाकर उसने 
अब दुसरे कर्त्तव्य को धारण कर लिया है 
पर उसे तराशने वाला वो माला  पिरोने वाला 
वो उस सीप के लिए एक इश्वर है
जो की उसमे एक नव जीवन देता है 
एक पहचान देता है


उस सीप को जिसे समुद्र की लहरें कभी रेत तो कभी पानी
के बीच कुदेरेते रहते हैं....इस जीवन के तरह जहाँ मानव एक सीप है 
और पहचान की तलाश में भटक रहा है सच और झूठ के खेल के बीच ..
इंतज़ार है इश्वर का...

......................................
Share this article :

5 टिप्पणियाँ:

वन्दना ने कहा…

सुन्दर अभिव्यक्ति।

Dr. shyam gupta ने कहा…

अच्छी विचारधारा ...

NEELANSH ने कहा…

vandana ji
shyam ji
aapka bahutt aabhaar..

good wishes

darshanjangra.blogspot.com ने कहा…

सुन्दर अभिव्यक्ति।

premkephool.blogspot.com ने कहा…

सुन्दर अभिव्यक्ति।

एक टिप्पणी भेजें

Thanks for your valuable comment.