नियम व निति निर्देशिका::: AIBA के सदस्यगण से यह आशा की जाती है कि वह निम्नलिखित नियमों का अक्षरशः पालन करेंगे और यह अनुपालित न करने पर उन्हें तत्काल प्रभाव से AIBA की सदस्यता से निलम्बित किया जा सकता है: *कोई भी सदस्य अपनी पोस्ट/लेख को केवल ड्राफ्ट में ही सेव करेगा/करेगी. *पोस्ट/लेख को किसी भी दशा में पब्लिश नहीं करेगा/करेगी. इन दो नियमों का पालन करना सभी सदस्यों के लिए अनिवार्य है. द्वारा:- ADMIN, AIBA

Home » » कुंडलिया ----- दिलबाग विर्क

कुंडलिया ----- दिलबाग विर्क

Written By Dilbag Virk on शनिवार, 23 अप्रैल 2011 | 11:37 am

बेटे जैसी बेटियां , कब समझोगे आप
करके हत्या भ्रूण की , क्यों करते हो पाप .
क्यों करते हो पाप ,बन बैठे हो कसाई
बिन बहना भैया कि , सूनी होगी कलाई .
कहत 'विर्क' कविराय , अगर हम अभी न चेते
बहुएँ   मिलेंगी   नाहिं , ठूंठ  से  होंगे  बेटे .

                      * * * * *
                            ----- साहित्य सुरभि -----

Share this article :

2 टिप्पणियाँ:

आशा ने कहा…

आपने सही कहा है |बिना बहिन भाई अधूरा है |बिना स्त्री पुरुष भी अधूरा है |अच्छी रचना के लिए बधाई
आशा

premkephool.blogspot.com ने कहा…

अच्छी रचना

एक टिप्पणी भेजें

Thanks for your valuable comment.