नियम व निति निर्देशिका::: AIBA के सदस्यगण से यह आशा की जाती है कि वह निम्नलिखित नियमों का अक्षरशः पालन करेंगे और यह अनुपालित न करने पर उन्हें तत्काल प्रभाव से AIBA की सदस्यता से निलम्बित किया जा सकता है: *कोई भी सदस्य अपनी पोस्ट/लेख को केवल ड्राफ्ट में ही सेव करेगा/करेगी. *पोस्ट/लेख को किसी भी दशा में पब्लिश नहीं करेगा/करेगी. इन दो नियमों का पालन करना सभी सदस्यों के लिए अनिवार्य है. द्वारा:- ADMIN, AIBA

Home » , , » कम से कम नाम तो बता दिया होता !!

कम से कम नाम तो बता दिया होता !!

Written By गजेन्द्र सिंह on मंगलवार, 12 अप्रैल 2011 | 12:22 am


गजोधर बेहद डरा हुआ बैठा था, तभी मनोहर वहां पहुंचा और पूछा, "क्या हुआ, भाई...

इतना डरा-सहमा क्यों लग रहा है...?"

गजोधर ने कहा, "अभी-अभी मुझे एक खत मिला है, जिसमें लिखा है -

मेरी बीवी से मिलना बंद कर दो, वरना जान से हाथ धो बैठोगे..."

मनोहर ने सुझाव दिया, "तू उसकी बीवी से मिलना बंद कर दे... सब परेशानी खत्म हो जाएगी..."

गजोधर ने निराश स्वर में कहा, "तेरे लिए कहना बहुत आसान है, दोस्त..."

मनोहर ने फिर पूछा, "उसकी बीवी इतनी पसंद है तुझे...?"

गजोधर ने जवाब दिया, "नहीं, उसने खत में अपना नाम तो लिखा ही नहीं...कौन से दोस्त की ............. "
Share this article :

2 टिप्पणियाँ:

सलीम ख़ान ने कहा…

कौन से दोस्त की.....
.
.
.
.
किसी दुसरे की बीवी से सम्बन्ध अर्थात 'ससहमति व्यभिचार' और 'ससहमति व्यभिचार' की परिणति सिर्फ़ धमकी ही नहीं कभी कभी हत्याए भी होती है. इस सम्बन्ध में मेरा लेख पढ़ें !

http://swachchhsandesh.blogspot.com/2011/03/fornication-slow-poision.html

Dr. shyam gupta ने कहा…

और एसे वेवकूफ़ी के जोक व पोस्ट न लिखे जायं तो बहुत अच्छा....

एक टिप्पणी भेजें

Thanks for your valuable comment.