नियम व निति निर्देशिका::: AIBA के सदस्यगण से यह आशा की जाती है कि वह निम्नलिखित नियमों का अक्षरशः पालन करेंगे और यह अनुपालित न करने पर उन्हें तत्काल प्रभाव से AIBA की सदस्यता से निलम्बित किया जा सकता है: *कोई भी सदस्य अपनी पोस्ट/लेख को केवल ड्राफ्ट में ही सेव करेगा/करेगी. *पोस्ट/लेख को किसी भी दशा में पब्लिश नहीं करेगा/करेगी. इन दो नियमों का पालन करना सभी सदस्यों के लिए अनिवार्य है. द्वारा:- ADMIN, AIBA

Home » » बड़े भाग्य से आया भैया युग यह भ्रष्टाचार का !

बड़े भाग्य से आया भैया युग यह भ्रष्टाचार का !

Written By अरविन्द शुक्ल on सोमवार, 18 अप्रैल 2011 | 1:41 pm




हंस लो गा लो ख़ुशी मना लो 
गुण गाओ करतार का !
बड़े भाग्य से आया भैया 
युग यह भ्रष्टाचार का !

अगर मास्टर हो तो सुन लो 
गैर हाजिरी का पथ चुन लो ,
बनकर नेता करो दलाली 
जो भी फंसे धान सा धुन लो,

अधिकारी की करो बुराई
डंका पीट प्रचार का !
बड़े भाग्य से आया भैया 
युग यह भ्रष्टाचार का !

अगर डाक्टर प्रतिभाशाली 
होवे डिग्री  चाहे जाली, 
मुर्दे का भी इलाज करके
जेब करो  लोगों की ख़ाली ,

ऐसी देना दवा कि जिससे   
मर्ज बढे बीमार का !
बड़े भाग्य से आया भैया 
युग यह भ्रष्टाचार का !

अगर भाग्य से हैं अधिकारी 
निज महलहीन तो महा अनारी, 
पाल दलालों को दस बारह
फैला दो  घूस की बीमारी ,

बन जायेगा नंदन कानन 
भाग्य तुम्हारे थार का !
बड़े भाग्य से आया भैया 
युग यह भ्रष्टाचार का !


नेता हो तो कहना क्या है 
दरिद्रता में रहना क्या है,

  
शेष शीघ्र ..................................

-----------------------------------------------
----------------------------------------------- 
Share this article :

3 टिप्पणियाँ:

Dr. shyam gupta ने कहा…

शानदार...

अरुण चन्द्र रॉय ने कहा…

bahut badhiya !

Swarajya karun ने कहा…

क्या खूब दिया है घुमा के ! बधाई अरविन्द भाई !
हो सके तो आगे मेरी ओर से यह पंक्ति भी जोड़ लीजियेगा -
स्विट्ज़रलैंड के गुप्त बैंक से हुए अनोखे इकरार का ,
बड़े भाग्य से आया भैया युग यह भ्रष्टाचार का !

एक टिप्पणी भेजें

Thanks for your valuable comment.