नियम व निति निर्देशिका::: AIBA के सदस्यगण से यह आशा की जाती है कि वह निम्नलिखित नियमों का अक्षरशः पालन करेंगे और यह अनुपालित न करने पर उन्हें तत्काल प्रभाव से AIBA की सदस्यता से निलम्बित किया जा सकता है: *कोई भी सदस्य अपनी पोस्ट/लेख को केवल ड्राफ्ट में ही सेव करेगा/करेगी. *पोस्ट/लेख को किसी भी दशा में पब्लिश नहीं करेगा/करेगी. इन दो नियमों का पालन करना सभी सदस्यों के लिए अनिवार्य है. द्वारा:- ADMIN, AIBA

Home » » [अकेला नहीं हूँ ]

[अकेला नहीं हूँ ]

Written By Krishan Kayat on शनिवार, 23 अप्रैल 2011 | 12:45 pm

                  
         इस अनजाने ,
                             सुनसान और वीराने ,
           जहां में ,
                         मैं अकेला नहीं हूँ .
          

             मैं ही नहीं , यहाँ मेरे ,
                                                जीवन की गहराइयाँ  भी हैं,
             फिर मैं अकेला कहाँ ,
                                             मेरे साथ मेरी तन्हाईयाँ भी हैं ,
             कुछ पुरानी यादें ,
                                           कुछ अधूरे वादे ,
            कदम चले हैं ,
                                  जिस डगर पर ,
            हैं धुंधले से रास्ते ,
                                        शायद मंजिल से मिला दे ,
             ठोकरों में जमाने की आए जो ,
                                                    वो डेला नहीं हूँ ,
             इस अनजाने   -----------------------------
         गैरों  में  रहकर  वफा  का ,
                                                 गिला  तो  न  होगा , 
        अपना कहलाने वालो ने दिया जो ,
                                                     वो सिला  तो न  होगा .
            समझा रहें हैं ये  रास्ते ,
                                                     कुछ नए आयाम ,
             कुछ खोना कुछ पाना,
                                               बस इसी का जिंदगी है नाम,
            मेरी तक़दीर पर रहम कर,
                                                और बोझ न डालो मुझ पर ,
         इतना बोझ उठा सकूं  जो ,
                                                  मैं कोई ठेला नहीं हूँ ,
           इस अनजाने ,
                                    सुनसान और वीराने ,
             जहां में ,
                                     मैं अकेला नहीं हूँ ,
         मैं अकेला नहीं हूँ....'                                         
Share this article :

3 टिप्पणियाँ:

आशा ने कहा…

सुंदर भावपूर्ण रचना |
आशा

akhtar khan akela ने कहा…

bhtrin rchna lekin aek sch to yeh hai ke me to akelaa hi hun naa . akhtar khan akela kota rajsthan

Harshad mehta ने कहा…

Very touching.

एक टिप्पणी भेजें

Thanks for your valuable comment.