नियम व निति निर्देशिका::: AIBA के सदस्यगण से यह आशा की जाती है कि वह निम्नलिखित नियमों का अक्षरशः पालन करेंगे और यह अनुपालित न करने पर उन्हें तत्काल प्रभाव से AIBA की सदस्यता से निलम्बित किया जा सकता है: *कोई भी सदस्य अपनी पोस्ट/लेख को केवल ड्राफ्ट में ही सेव करेगा/करेगी. *पोस्ट/लेख को किसी भी दशा में पब्लिश नहीं करेगा/करेगी. इन दो नियमों का पालन करना सभी सदस्यों के लिए अनिवार्य है. द्वारा:- ADMIN, AIBA

Home » » सोच - समझ -----कृष्ण कायत

सोच - समझ -----कृष्ण कायत

Written By Krishan Kayat on शुक्रवार, 22 अप्रैल 2011 | 1:11 pm


                                               ये हमारी मजबूरी है,
                                                  सोचने व समझने में
                                                     दूरी है ....         -२
                                                   तभी तो.. ,
                                                           हमारी वास्तविक
                                                    " जीवन - गीता "
                                                  अभी तक अधूरी है .                                                                                        
                                           ये हमारी ....................
                                            सोच तो हम लेते हैं
                                            कि ..
                                          समाज में
                                           परिवर्तन लायेंगें ,
                                          इन फैली हुई
                                          कुरीतियों और बुराइयों को
                                                      दूर  भगायेंगे .
                                         लेकिन ........
                                                      जब  हम
                                         समझ लेतें हैं
                                           कि ...
                                          इससे हम अपने ही
                                           निजी लाभों व
                                                      स्वार्थों को
                                            क्षति पहुंचाएंगे ,
                                            तो हम ....
                                           त्याग देते हैं
                                            परिवर्तन के विचार को ,
                                           और .......
                                           फिर से
                                                     रम जाते हैं
                                          स्वर्ग समझ कर
                                          अपने इसी
                                                       नश्वर संसार को... .
                                        अपने इसी नश्वर संसार को.                                                                                                                                                                                                                                                                                                        
                                                                         bisarti raahen
Share this article :

1 टिप्पणियाँ:

एक टिप्पणी भेजें

Thanks for your valuable comment.