नियम व निति निर्देशिका::: AIBA के सदस्यगण से यह आशा की जाती है कि वह निम्नलिखित नियमों का अक्षरशः पालन करेंगे और यह अनुपालित न करने पर उन्हें तत्काल प्रभाव से AIBA की सदस्यता से निलम्बित किया जा सकता है: *कोई भी सदस्य अपनी पोस्ट/लेख को केवल ड्राफ्ट में ही सेव करेगा/करेगी. *पोस्ट/लेख को किसी भी दशा में पब्लिश नहीं करेगा/करेगी. इन दो नियमों का पालन करना सभी सदस्यों के लिए अनिवार्य है. द्वारा:- ADMIN, AIBA

Home » » मैचिंग सेंटर

मैचिंग सेंटर

Written By sadhana vaid on शनिवार, 30 अप्रैल 2011 | 7:31 am

हमारे एरिया की यह दूकान महिलाओं की सबसे पसंदीदा दूकान है ! किसी भी रंग की साड़ी आप ले आइये उसका मैचिंग ब्लाउज यहाँ आपको निश्चित रूप से मिल जायेगा ! हर रंग के हलके गहरे दर्जनों शेड यहाँ उपलब्ध हैं ! अलमारियों में विभिन्न रंग के करीने से लगे हुए हलके से गहरे होते हुए कपड़ों के सजे हुए थान बहुत आकर्षक लगते हैं ! लेकिन काले रंग के थानों में यह स्थिति नहीं होती क्योंकि शायद काले रंग का केवल एक ही शेड होता है ! परन्तु क्या काले धन के साथ भी यही स्थिति है ? शायद नहीं ! आइये इस पर भी ज़रा गौर करें !

हमारे जैसे आम आदमियों की समझ से तो काला धन वह धन है जिसको कमाने के बाद सरकार को टेक्स नहीं दिया गया है और उसका प्रयोग कैश के रूप में किया जाता है तथा अनेक तरह से उस काले धन को व्हाईट बनाने की मशक्कत की जाती है ! सच पूछा जाये तो इस काले धन के भी अनेकों शेड हैं और आज इसीके विभिन्न रूपों पर चिंतन करने का प्रयास कर रही हूँ !

१ – व्यापारियों द्वारा अधिक खर्च और कम बिक्री दिखा कर कम लाभ दिखाना और उस पर टेक्स बचाना ! शायद यह काले धन का सबसे हलके रंग का शेड है !

२ - ठेकेदारों द्वारा प्रोजेक्ट्स में घटिया सामान लगा कर निर्माण की गुणवत्ता खराब कर उससे बचाया गया धन ! यदि इस लाभ पर वह टेक्स दे भी देता है तब भी बचा हुआ धन काला ही है !

३ – ऐसा धन जिसे सरकारी अधिकारी एवं नेता रिश्वत लेकर ठेकेदारों के अधिक मूल्य वाले टेंडर पास कर कमाते हैं और उन ठेकेदारों को भी कमाई करने के लिये गुणवत्ता की बलि देने के लिये हरी झंडी दिखा देते हैं ! इस तरह ना सिर्फ पब्लिक की गाँठ से पैसा अधिक निकलता है बल्कि उससे जो निर्माण होता है वह भी घटिया क्वालिटी का होता है जिसका खामियाजा भी आगे पब्लिक को ही उठाना पड़ता है ! इस तरह कमाया हुआ धन भी काला धन ही है और इससे पहले वर्णित काले धन के शेड से अधिक गहरा शेड है !

४ - ब्लैकमेलर्स जो ठेकेदारों और पूंजीपतियों को धमका कर उनसे रंगदारी वसूल करते हैं यह भी काले धन का ही एक शेड है !

५ - बच्चों को किडनैप करके फिरौती के रूप में धन अर्जित करना या सुपारी लेकर किसीकी ह्त्या करने के बाद अर्जित किया हुआ धन भी काले धन का ही एक विकृत स्वरुप है !

६ - डॉक्टरों को प्रलोभन देकर मरीजों को मंहगी दवाएं, इलाज व परीक्षण के लिये मजबूर करना और इस प्रकार धन अर्जित करना भी काले धन का ही एक अन्य रूप है !

७ - मंदिरों और मठों में भक्तों की धार्मिक भावनाओं को उकसा कर उनसे धन वसूलना और फिर उनका अधार्मिक कार्यों के लिये प्रयोग करना भी तो काले धन का ही एक और भयानक स्वरुप है !

८ - सरकारी सुविधाएँ चाहे वे गरीबो के लिये बनी हों या उद्योग धंधों के विकास के लिये बनी हों उनको सरकारी अधिकारियों की मिलीभगत से हड़प कर उनके द्वारा धन कमाना भी तो काला धन ही है !

९ - दूध, दवाएं व अन्य खाद्य पदार्थों में ज़हरीली व अखाद्य चीजों की मिलावट कर कमाया गया धन भी तो काले रंग का ही विभिन्न शेड है !

१० - शिक्षा संस्थानों में अनेक तिकड़मों के द्वारा सरकारी ग्रांट्स का दुरुपयोग करना व विद्यार्थियों से ज़बर्दस्ती ऊँची फीस वसूल करना और इस प्रकार धन कमाना भी तो काला धन ही माना जायेगा !

शायद काले धन के और भी अनेक रूप हैं जिन तक पहुँच पाना मेरे लिये संभव नहीं हो पा रहा है ! अपने सुधी पाठकों से मेरा निवेदन है वे इस तरह अनैतिक रूप से धन एकत्र करने के प्रचलित तरीकों के बारे में स्वयम भी एक सूची बनाएँ और लोगों को इसकी जानकारी दें !

बस मुझे एक ही चिंता है कि यदि काले रंग के भी इतने सारे शेड हो जायेंगे तो बेचारे हमारे मौचिंग सेंटर के मालिक को काले रंग के शेडों के लिये भी कपड़ों की एक नयी अलमारी बनवानी पड़ जायेगी ! इस बार जाऊँगी तो देखूँगी वहाँ उसके लिये जगह है भी या नहीं !

साधना वैद
Share this article :

2 टिप्पणियाँ:

Dr. shyam gupta ने कहा…

---बहुत सुन्दर व्याख्या है काले धन की व उनके विभिन्न शेड्स की साधना जी...बधाई..

---परन्तु मेचिन्ग सेन्टर में आपको शायद ये सारे शेड न मिलें,क्योंकि ये शेड काले धन की भांति गुप्त रहते हैं पब्लिक के लिये प्रदर्शन हेतु कहां होते हैं...

हल्ला बोल ने कहा…

ब्लॉग जगत में पहली बार एक ऐसा सामुदायिक ब्लॉग जो भारत के स्वाभिमान और हिन्दू स्वाभिमान को संकल्पित है, जो देशभक्त मुसलमानों का सम्मान करता है, पर बाबर और लादेन द्वारा रचित इस्लाम की हिंसा का खुलकर विरोध करता है. जो धर्मनिरपेक्षता के नाम पर कायरता दिखाने वाले हिन्दुओ का भी विरोध करता है.
इस ब्लॉग पर आने से हिंदुत्व का विरोध करने वाले कट्टर मुसलमान और धर्मनिरपेक्ष { कायर} हिन्दू भी परहेज करे.
समय मिले तो इस ब्लॉग को देखकर अपने विचार अवश्य दे
देशभक्त हिन्दू ब्लोगरो का पहला साझा मंच - हल्ला बोल
हल्ला बोल के नियम व् शर्तें

एक टिप्पणी भेजें

Thanks for your valuable comment.