नियम व निति निर्देशिका::: AIBA के सदस्यगण से यह आशा की जाती है कि वह निम्नलिखित नियमों का अक्षरशः पालन करेंगे और यह अनुपालित न करने पर उन्हें तत्काल प्रभाव से AIBA की सदस्यता से निलम्बित किया जा सकता है: *कोई भी सदस्य अपनी पोस्ट/लेख को केवल ड्राफ्ट में ही सेव करेगा/करेगी. *पोस्ट/लेख को किसी भी दशा में पब्लिश नहीं करेगा/करेगी. इन दो नियमों का पालन करना सभी सदस्यों के लिए अनिवार्य है. द्वारा:- ADMIN, AIBA

Home » » “दिया” जला तो अम्मा -बाबू -चैन से सोये

“दिया” जला तो अम्मा -बाबू -चैन से सोये

Written By Surendra shukla" Bhramar"5 on शुक्रवार, 1 अप्रैल 2011 | 11:34 am


दिया जला तो
अम्मा -बाबू -चैन से सोये
भिनसारे ही उठकर भाई
ख़ुशी-झूम कर –‘नाच’ पड़े हैं
मेरादर्द’ हुआ कम भाई
नहींदवाई’ उनने खायी
लिए मोबाईल
‘सन्देशा’ वे भेज रहे हैं
‘गुल्ली’-डंडा’ याद तू करना
 ‘मुन्ना’ - मेरे ‘लाल’ 
जरा नहीं घबराना उनसे 
कर देना मुह ‘लाल’ 
‘एक’+ -‘एक’- रन जोड़े जाना 
‘चौका’ भी धर देना
यहाँ -वहां ताके तुम रहना 
‘छक्का’ भी जड़ देना
जितने तेरे ‘भाई’ –‘संग’ हैं
मिल के ‘गलेलगाना  
सबको जिम्मेदारी देना
"माँ" की लाज बचाना
‘कांटे’ –‘पत्थर’ दौड़ा था तू
करतामुश्किल’- काम
जिले राज्य से भेजा हमने
करना ना बदनाम
आज तोमखमल’ दौड़ रहा तू
कर सकता हैहर’-‘ काम’
तेरा बल्ला
तेरी माँ के बल्ले सेवो’ बनी टोकरी
संग -संग रक्खे
उसमे रक्खाफूल’




सदाहोश’ में खेले जाना
कुछ भी ना होभूल’
रखोभरोसा’- अपने ऊपर
सभी काम-आसान’
‘अश्वमेध’ हम  करते बैठे
‘घोड़े’ भागें तेज
‘विजय’ रथ ना रुके हमारा
तेरीअम्मा’ ने भी माँगा
‘नवरात्रि’ !!! हे दुर्गा माई !!
पूत हमारा -  दुनिया’ छाये
लिएविश्वकप जल्दी आये !!

सुरेन्द्र कुमार शुक्ल भ्रमर५
प्रतापगढ़ .प्र.
अब हम जीत के आयेंगे >>>>>
1.4.2011
Share this article :

1 टिप्पणियाँ:

शिखा कौशिक ने कहा…

mata pita apni santan se yahi aasha rakkhte hain .bahut sundar bhavabhivyakti .badhai .

एक टिप्पणी भेजें

Thanks for your valuable comment.