नियम व निति निर्देशिका::: AIBA के सदस्यगण से यह आशा की जाती है कि वह निम्नलिखित नियमों का अक्षरशः पालन करेंगे और यह अनुपालित न करने पर उन्हें तत्काल प्रभाव से AIBA की सदस्यता से निलम्बित किया जा सकता है: *कोई भी सदस्य अपनी पोस्ट/लेख को केवल ड्राफ्ट में ही सेव करेगा/करेगी. *पोस्ट/लेख को किसी भी दशा में पब्लिश नहीं करेगा/करेगी. इन दो नियमों का पालन करना सभी सदस्यों के लिए अनिवार्य है. द्वारा:- ADMIN, AIBA

Home » , , , » त्रिपदा अगीत गज़ल... डा श्याम गुप्त .....

त्रिपदा अगीत गज़ल... डा श्याम गुप्त .....

Written By shyam gupta on शुक्रवार, 1 अप्रैल 2011 | 2:53 pm


    त्रिपदा अगीत गज़ल....
       (पागल-दिल)
भग्न अतीत की न बात करें,
व्यर्थ बात की क्या बात करें;
अब नवोन्मेष की बात करें।

यदि महलों मैं जीवन हंसता,
झोंपडियों में जीवन पलता;
क्या ऊंच नीच की बात करें।

शीश झुकायें क्यों पश्चिम को,
क्यों अतीत से हम भरमायें;
कुछ आदर्शों की बात करें 

शास्त्र ,बडे-बूडे औ बालक,
है सम्मान देना पाना तो;
मत श्याम’ व्यन्ग्य की बात करें ।

Share this article :

2 टिप्पणियाँ:

Dilbag Virk ने कहा…

शीश झुकायें क्यों पश्चिम को,
क्यों अतीत से हम भरमायें;
कुछ आदर्शों की बात करें ।
bahut khoob
kavita-kaarn

Hema Nimbekar ने कहा…

bahut badiya..

एक टिप्पणी भेजें

Thanks for your valuable comment.